loading...
loading...
loading...
रॉन्ग नंबर से कॉल आया और हो गया प्यार, लेकिन जब उसके घर पंहुचा तो उड़ गए होश स्वास्थ्य जांच शिविर में विभिन्न रोगों से ग्रसित 178 लोगों की जांच हुई सभी धर्म-मजहबों को सम्मान देना चाहिए हरियाणा: मुर्तजापुर के सरकारी पशु अस्पताल में पशु जांच शिविर का आयोजन भारत और विश्व के इतिहास में 25 जून की प्रमुख घटनाएं बहुत गौरवशाली रहा गोंड समाज का इतिहास: रामदुलार गोंड बड़ी सफलता: पुलिस एनकाउंटर में राजस्थान के खूंखार गैंगस्टर आनंदपाल की मौत, अन्य दो साथी अरेस्ट अनियंत्रित कार ने फुटपाथ पर सो रहे चार लोगो को कुचला आखिर मारा गया राजस्थान का कुख्यात बदमाश आनंदपाल Breaking News: पुसिस एनकाउंटर में गैंगेस्टर आनंदपाल मारा गया , मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी हुए घायल चिकित्सा विभाग द्वारा जारी स्थानान्तरण आदेश पर हाईकोर्ट द्वारा रोक गैंगस्टर आनंदपाल का एनकाउंटर चीनी का अधिक सेवन हानिकारक जिले में बनेंगे सात नए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र श्रीगंगानगर से जल्द शुरू होगी हवाई सेवाएं, जयपुर व दिल्ली से जुड़ेंगे लोग महिला विश्व कप 2017: मिताली सेना का विजयी आगाज, इंग्लैंड को दी 35 रन शिकस्त जीएसटी: 30 जून की आधी रात से पहले कर ले ये 9 काम... वीडियो: पंजाब में बीच सड़क पर नंगा घूम रहे बाबा की लोगो ने की जमकर पिटाई 5 किलो हीरोइन के साथ ड्रग्स तस्कर गिरफ्तार, विदेशों में भी करता था सप्लाई अमरनाथ यात्रा के लिए इच्छुक यात्री भंडारे वाले बालटाल पहुंचे
पानी से बाहर निकालने पर भी नहीं मरती ये मछली!
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 01:25:24 PM
1 of 1

नई दिल्ली। 'मछली जल की रानी है, जीवन उसका है पानी है, हाथ लगाओ डर जाएंगी, बाहर निकालो मर जाएंगी', यह कविता बच्चा-बच्चा जानता है। कहने का मतलब यह है कि पानी के बिना मछली जीवित नहीं रह सकती है। मछली की एक ऐसी प्रजाति है जो पानी से बाहर निकालने पर भी नहीं मरती और लेकिन फूल जाती है। 

 

पफर फिश की त्वचा मजबूत और रूखी होती है। इनकी कुछ प्रजातियों में रीढ की हड्डी होती है। पेट इनके शरीर का सबसे लचीला हिस्सा होता है। जब पफर फिश मुंह से पानी खींचती है, तो इनके पेट का आकार सामान्य आकार से कई गुना फैल जाता है। इनमें चार नुकीले दांत होते हैं। ये दांतों का इस्तेमाल शंबुक यानी मसल, बडी CP यानी क्लैम और सीपदार मछली यानी शेलफिश पर हमले के लिए करती हैं। 

पफर फिश शैवाल और कई तरह के कृमि यानी वॉर्म्स के अलावा कडे खोल वाले जल जीवों को भी खाती हैं। ये बहुत साफ देख लेती हैं। 5 साल की उम्र होने पर ये प्रजनन की क्षमता प्राप्त कर लेती हैं। सहवास के लिए नर मादा को छिछले पानी यानी तटों के करीब जाने के लिए गाइड करते हैं जहां मादा तीन से सात अंडे देती हैं। 

बडी पफर अंडों की रक्षा करती हैं। साथ ही समय आने पर यही अंडों को फोडती हैं जिससे बच्चे बाहर निकल आते हैं। इसके बाद बडी पफर गहरे पानी में लौटकर अपने झुंड में शामिल हो जाती हैं। इनके छोटे बच्चों को मैग्नीफाइंग ग्लास के बगैर नहीं देखा जा सकता क्योंकि ये वयस्कों के शरीर से चिपके रहते हैं। अध्दुत पफर फिश खतरा महसूस होने पर ये अपने पेट को कुछ ही सेकेंड में फुलाकर बडा कर लेती हैं।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.