गोरखपुर: BRD मेडिकल कॉलेज में 48 घंटों में हुई 34 और बच्चों की मौत 17 अगस्त राशिफल : जानिए कैसा रहेगा आपके लिए गुरुवार का दिन देश्‍ा और दुनिया के इतिहास में 17 अगस्‍त की महत्वपूर्ण घटनाएं मरीजों की सेवा करने में भी अपना योगदान देंगे स्वास्थ्य महकमे के कर्मचारी स्वास्थ्य केंद्र पर आठ माह से लटक हुआ है ताला सदर अस्पतालों में दवा और जांच की सुविधाओं का घोर अभाव प्रेग्नेंसी डर काे दूर करने के लिए अपनाएं ये तरीके शराब पीने से तबाह हो सकती है आपकी सेक्स लाइफ बार-बार जम्हाई आने के ये हो सकते है कारण AC में रहने की आदत आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक पनीर खाने का सही समय और फायदे घंटो तक गेम खेलना स्वास्थ्य के लिए खतरनाक कपूर के तेल से दूर करे डैंड्रफ की समस्या आपकी बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करेगा ये फेस पैक महिला सशक्तिकरण की प्रतीक हैं मिताली राज : शिवराज सिंह विश्व बैंक की टीम के सदस्यो ने की शिक्षा मंत्री देवनानी से मुलाकात 78 हजार निजी विद्यालयों के अप्रशिक्षित शिक्षकों को भी करनी होगी टीचर ट्रेनिंग प्रो कबड्डी लीग 2017: तमिल थलाइवाज और हरियाणा स्टीलर्स का मुकाबला 25-25 से रहा ड्रा बांग्लादेश में जाने ले रहा है बाढ़, 30 की मौत लाल किला पर रही राजस्थानियो की धूम, जयहिंद के साथ जय जय राजस्थान की रही गूंज...
एक ऐसा मंदिर जहां नहीं होती कोई भी पूजा-पाठ, जानिए पूरी कहानी
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 01:45:59 PM
1 of 1

रायपुर। लोग अपनी मन्नत मांगने मंदिर जाते है और वहां पूजा-पाठ करते है। लेकिन आज आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे है जो महानदी किनारे पर स्थित है और इस मंदिर में कोई भी पूजा-पाठ नहीं करता। यह मंदिर छत्तीसगढ नारायणपुर जिला मुख्यालस से महज 40 किलोमीटर दूर महानदी के तट पर है। नारायणपुर गांव का ऐतिहासिक शिव मंदिर उपेक्षा का शिकार है। कहने को तो मंदिर की देखभाल का जिम्मा भारतीय पुरातत्व विभाग का है, लेकिन इसके बावजूद मंदिर की देखभाल उचित तरीके से नहीं हो रही है। ऐसे में 6वीं शताब्दी में निर्मित इस पूर्वाभिमुख प्राचीन शिव मंदिर के अस्तित्व पर खतरा पैदा हो गया है। अपने आप में ये मंदिर कई रहस्यों को छुपाए हुए है। 

 

कभी था बौद्ध विहार

स्थानीय लोग बताते हैं कि कभी इस मंदिर को बौद्ध विहार माना जाता था, लेकिन काफी जांच-पडताल और शोध के बाद पता चला कि ये शिव मंदिर है। 

प्रचलित है विचित्र जनश्रुति

मंदिर बनाने वाले कारीगर को लेकर इलाके में विचित्र तरह की जनश्रूति प्रचलित है। कहते हैं कि इसे बनाने वाला कारीगर नंगे बदन इसके पत्थरों की तराशी का काम करता था। दोनों समय उसकी पत्नी ही खाना लेकर आती थी। संयोग से एक दिन उसकी बहन खाना लेकर आई और अपने कारीगर भाई को नंगे देख शर्म से पानी-पानी हो गई। इसी तरह बहन की स्थिति देख उस कारीगर से शर्म के मारे रहा नहीं गया और उसने मंदिर से कूदकर जान दे दी। भाई के मरने पर बहन ने भी प्राण त्याग दिए। मंदिर के समीप दो पाषाण की शिला पडी है, जिसके बारे में कहा जाता है कि वो उस कारीगर और उसकी बहन की हैं। 

कोई नहीं होता है पूजा-पाठ
सिरपुर कालीन इस प्राचीन मंदिर में पूजा-पाठ भी नहीं होता। इसकी वजह है कि निर्धारित समयावधि में इसका निर्माण पूरा नहीं हो पाया था। दरअसल मंदिर बनाने वाले कारीगर की बीच में ही मृत्यु हो जाने के चलते मंदिर भी अधूरा रह गया। 

पत्थरों का है पूरा मंदिर
मंदिर एक कोण में महानदी के किनारे स्थित है। इसमें सुंदर नक्काशी और भित्ती चित्र उकेरे गए हैं। पूरा मंदिर पत्थरों से निर्मित है। साथ ही विभिन्न प्रकार की मूर्तियां दीवारों पर बनी हुई हैं। पुरातत्व विभाग ने इसे चारो तरफ से लोहे के ग्रिल से घेर दिया है, ताकि ये सुरक्षित रहे। बावजूद इसके महानदी के बाढ के थपेडों ने इसका काफी नुकसान पहुंचाया है।

क्या है ग्रामीणों की मांग
ग्रामीणों ने इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की मांग की है। कभी बौद्ध विहार के रूप में चर्चित रहे इस मंदिर के आसपास अब छोटी सी आदिवासी आबादी विकसित हो गई है, लेकिन वहां तक पहुंचने के लिए अभी भी पक्की सडक नहीं है। गांव वाले कहते हैं कि सरकार यदि इसे पर्यटन से जोड दे तो नारायणपुर का ये प्राचीन मंदिर भी विश्व मानचित्र पर जगह पा सकता है।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.