loading...
राजस्थान में अब वरिष्ठ नागरिकों एवं पेंशनरों के लिए अस्पतालों में होंगे अलग से काउंटर, लम्बी कतारों से मिलेगा निजात चैम्पियंस ट्रॉफी में पहली बार नहीं आयेगी नजर: वेस्टइंडीज टीम यूपी पुलिस की गुंडागर्दी, सपा नेता की थाने में की पिटाई सोनम कपूर की इन अदाओं पर फिदा हुआ हॉलीवुड, देखें तस्वीरें चिकारा ने खेली ऐसी चमत्कारी पारी, 40 ओवर के मैच में 70 बार गेंद बाउंड्री के पार शीना बोरा हत्याकांड की जांच कर रहे इंस्पेक्टर गनोरे के घर में पत्नी की हत्या PICS: भारतीय क्रिकेट टीम ने एक साथ देखी 'सचिन: ए बिलियन ड्रीम्स' सानिया - श्वेडोवा की जोड़ी को न्यूरेमबर्ग कप के पहले दौर में मिली करारी शिकस्त दिव्यांगों की पेंशन में बढ़ोतरी, कैबिनेट ने दी मंजूरी दामाद की हत्या कराने वाले सास-ससुर को पुलिस ने किया गिरफ्तार,लेकिन शूटर गिरफ्त से दूर तलाक के बाद फिर से विवाह के बंधन में बंधेंगे अरबाज! मशहूर फुटबॉलर को टैक्स धोखाधड़ी में मिली 21 माह की सजा कोर्ट ने रखी बरकरार एसिड पीड़िता ने रचाई शादी, एक्टर विवेक ओबेरॉय ने गिफ्ट किया फ्लैट सहारनपुर हिंसा को लेकर योगी एक्शन, डीएम और एसएसपी को पद से हटाया भूकंप पूर्वानुमान की नई तकनीक पर भारत कर रहा है काम, आपदा प्रबंधन में मिलेगी मदद ब्रिटेन में हाई अलर्ट, मैनचेस्टर के बाद भी आतंकी हमले की आशंका, प्रमुख जगहों पर... 'जग्गा जासूस' की रिलीज डेट हुई फाइनल, सैफ और श्रध्दा से मुकाबला करेंगे रणबीर-कटरीना उत्तराखंड, बस हादसे में 22 लोगों की मौत राजस्थान सरकार के जेलों के पास से मोबाइल टावर हटाने के आदेश के खिलाफ मोबाइल सेवा प्रदाता संगठन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट पाक: सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने दी धमकी, कहा- दुश्मन के आक्रमण का देंगे ऐसा जवाब कि.....
सरकार और पैसा दोनों की हुकूमत नही इस शहर पर
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 11:07:37 PM
1 of 1

नई दिल्ली। आज हम आपको भारत के एक ऐसे शहर के बारे में बताने जा रहे हैं ना तो यहां ना तो धर्म है, ना पैसा है और ना ही कोई सरकार। आप सभी यह सोच रहे होंगे कि भारत में तो शायद ही कोई ऐसा शहर हो लेकिन यह सत्य है और सबसे बड़ी बात यह है कि यह शहर चेन्नई से केवल 150 किलोमीटर दूर है।

इस जगह का नाम ऑरोविले है आपको बता दें कि इस शहर की स्थापना 1968 में मीरा अल्फाजों ने की थी। इस जगह को सिटी ऑफ डॉन भी कहा जाता है यानी भोर का शहर। आप सभी को जानकर हैरानी होगी कि इस शहर को बसाने के पीछे सिर्फ एक ही मकसद था कि यहां पर लोग जात-पात, ऊंच-नीच और भेदभाव से दूर रहें। यहां कोई भी इंसान आकर रह सकता है लेकिन शर्त सिर्फ इतनी हैं कि उसे एक सेवक के तौर पर रहना होगा। आप इस शहर में करीबन 50 देशों के लोग रहते हैं। इस शहर की आबादी करीब 24000 लोगों की है यहां पर एक मंदिर भी है। हालांकि मंदिर में किसी धर्म से जुड़े भगवान की पूजा नहीं होती यहां सिर्फ लोग आते हैं और योगा करते हैं। इस शहर की यूनेस्को ने भी प्रशंसा की है और आपको यह बात शायद नहीं पता होगी कि यह शहर भारतीय सरकार के द्वारा भी समर्थित है। हम आशा करते हैं यह जानकारी आपके लिए ज्ञानवर्धक सिद्ध हुई होगी क्योंकि हममें से शायद ही कोई हो जिसे यह पता हो कि भारत में भी इस प्रकार का कोई शहर है।

यह भी पढ़े: जेब में रखे चीनी करेगा मोबाइल चार्ज ये है तरीका

यह भी पढ़े: नोटबंदी से नोटवाली हुई एप्पल, इस तरह हुआ फायदा

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.