पार्टनर अगर हो हमउम्र, तो मजबूत होता है रिलेशनशिप घर पर ही बनाइये बैंगन मसाला सैक्स रैकेट गिरोह का भंडाफोड़, 8 महिलाओं को मुक्त कराया हिन्दी गीत ‘साबरमती के संत’ शहीदों का अपमान: अनिल विज इंदिरा गांधी की 100 वीं जयंती नहीं मनाना देश के लिए शर्मनाक: पी. चिदंबरम गुजरात चुनाव: आंतरिक गुटबाजी और पीएएएस की वजह से कांग्रेस की सूची में विलंब बुन्देलखण्ड को औद्योगिक हब बनाएगी योगी सरकार: मौर्य बद्रीनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद पद्मावती, आईएफएफआई विवाद पर हंसल मेहता निराश ISL 2017: गोवा एफसी ने 3-2 से चेन्नईयन एफसी को चटाई धूल व्हाट्सएप पर पोस्ट डालना अधिकारी को पड़ा महंगा, गवानी पड़ी कुर्सी गांव में हो रही है राजपाल यादव की बेटी की शादी, बैंक मैनेजर है दामाद करुणामय संसार बनाने के लिए भारत-चीन को मिलकर करना होगा काम: दलाई लामा एशियन कबड्डी चैंपियनशिप: पुरुष व महिला की टीमें घोषित, हिमालय के 4 खिलाडी शामिल विश्व शौचालय दिवस : स्वच्छ भारत मिशन ने मनाया शौचालय दिवस VVS लक्ष्मण की ड्रीम टेस्‍ट टीम घोषित, जानिए टीम के 11 सदस्य बरेली पुलिस ने अपराध होने से पहले आरोपियों को किया गिरफ्तार प्रति व्यक्ति औसत GDP के लिहाज से भारत ने लगाई छलांग, पहुंचा 126 वें स्थान पर अंडर-19 एशिया कप में पाक को हराकर अफगानिस्‍तान बना चैम्पियन जिम्बाब्वे: रॉबर्ट मुगाबे की पार्टी प्रमुख पद से की छुट्टी, एमर्सन नांगाग्वा संभालेंगे कमान
इस शख्स ने दुनिया की सबसे लंबी और बहुत कठिन चढ़ाई महज 8 दिन में पूरी कर सबको किया हैरान
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 11:02:29 AM
1 of 1

नई दिल्ली। लोगों को भी रिकॉर्ड बनाने की ऐसी धून सवार रहती है कि लोग क्या कर गुजरते हैं इसका अंदाजा शायद वो खुद भी नहीं लगा सकते हैं। ऐसा कुछ किया चेक रिपब्लिक के रहने वाले एडम ने। एडम ने दुनिया की सबसे लंबी और बेहद कठिन चढ़ाई महज 8 दिन में पूरी कर सबको चौंका दिया है। आपको बता दें कि एडम ने योशेमिते नेशनल पार्क की 3000 फीट ऊंची पहाड़ी पर 14 नवंबर को चढ़ाई शुरू की। 

कड़ी मशक्कत से वे 90 डिग्री ऊंची पहाड़ी के टॉप पर आठ दिन बाद पहुंचे। इससे पहले अमेरिकी क्लाइंबर टॉमी काल्डवेल और केविन जोर्गेनसन ने पिछले साल जनवरी में यहां चढ़ाई की थी। लेकिन इन दोनों ने 19 दिन में इसे पूरा किया था। एडम ने कहा कि मैं इस वक्त बहुत अद्भुत महसूस कर रहा हूं और मेरा हौसला और बढ़ गया है। 

हालांकि ये यात्रा उतनी ही कठिन थी,जितनी मैं सोच रहा था। मैंने डेढ़ महीने तक इसकी अच्छी तैयारी की है। आपको बता दें कि इस एडवेंचर स्पोर्ट्स में क्लाइंबर किसी इक्विपमेंट की मदद के बिना रस्सियों के सहारे पहाड़ पर चढ़ता है। इसमें रस्सियों को बोल्ट से बांधते हैं। लेकिन पहाड़ पर बोल्ट ठोकने के लिए ड्रिल मशीन का प्रयोग नहीं करते, बल्कि हथौड़ी से बोल्ट ठोककर पहाड़ पर फिक्स करने पड़ते हैं।

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: दुनिया के सबसे ठंडे महाद्वीप में पानी नहीं बल्कि बहता है खून, छिपे हैं कई राज



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.