loading...
किताब का दावा: जीवित थे नेताजी, डीएनए टेस्ट से की गयी थी छेड़छाड़..! ऑस्ट्रिया की खुदाई में मिला 800 साल पुराना मोबाइल फोन..! Desert T-20: अफगानी शहजादे ने बना डाला एक दिन में दो बार फिफ्टी ठोकने का अनूठा वर्ल्ड रिकॉर्ड असम राइफ़ल्स के काफ़िले पर हमला, 3 आतंकी ढेर, 2 जवान शहीद, 3 घायल CM नीतीश कुमार ने शराबबंदी कर लाखों घरों को उजड़ने से बचाया: विधायक अनमोल वचन: गौतम बुद्ध के उपदेशों को अपनाएंगे तो एक दिन जरूर सफल हो जायेंगे Whatsapp पर किसी ने कर दिया हैं Block तो खुद को ऐसे करें Unblock डिजाइनर नफीसा रचेल विलियम प्रभावित है इनके पहनावे से... Tweet: सायना ने जीता मलेशिया मास्टर्स बैडमिंटन टूर्नामेंट, फिजियो को दिया जीत का श्रेय! ऑस्ट्रेलियन ओपन: सानिया तीसरे दौर में, बोपन्ना हारे, पुरुषों में चुनौती समाप्त इंडो-नेपाल सीमा पर हाई अलर्ट जारी, भारत-पाक सीमा पर भी बढ़ा दी चौकसी बाप रे! इतनी जिद्दी की, सरकार तक नहीं हिला सकी इसकी नींव... आगामी गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में मिनी मैराथन प्रतियोगिता आयोजित ईरानी ट्रॉफी: रणजी चैंपियन गुजरात को शेष भारत के खिलाफ 359 रनों की बढ़त, मैच में पकड़ मजबूत पॉप सिंगर गेरी हॉर्नर ने दिया बेटे को जन्म... 7.9 तीव्रता के भूकंप से थर्रा उठा पापुआ न्यू गिनी, काँप गई रूह, सुनामी की चेतावनी वापस ली जल्लीकट्टू आंदोलन: तमिलनाडु में फिर से चलेगा सांडो को काबू करने वाले खेल, अध्यादेश जारी! ऐसा क्या कह डाला की सब रह गए भौंच्चके, सनी लियोन INDvsENG Series: भारत तीसरा वनडे हारा, सीरीज जीते पर रह गया क्लीन स्विप का मलाल! औरंगाबाद: रेबीज संक्रमित कुत्तों से काटी गई गायों के दूध का उपभोग करने से 80 लोग बीमार
जन्म से ही कुछ लोगों के कान पर होता है छेद, जाने वजह
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 01:55:29 PM
1 of 1

नई दिल्ली। दुनिया में जन्म लेने वाले कुल लोगों में से कुछ ही ऐसे होते हैं जो अपने कान पर एक छेद के साथ पैदा होते हैं। यह छेद कई बार मुश्किल से ही दिखाई देता है। ऐसे लोग जिस चीज के साथ पैदा होते हैं, उसे प्रीयूरीक्यूलर साइनस कहते हैं। यूके में, सिर्फ 1 फीसदी लोगों के साथ ऐसा है। यूएस में यह फ्रीक्वेंसी और भी कम है और भारत सहित एशिया, अफ्रीका के हिस्सों में 4 से 10 फीसदी लोग इससे इफेक्टेड होते हैं।

यह छेद ग्रंथि, खरोंच या डिंपल होता है जो खास तौर से उन जगहों पर होता है जहां चेहरे और कान की नरम हड्डी मिलती है। प्रीयूरिक्यूलर साइनस तकनीकी रूप से एक अनुवांशिक बर्थ डिफेक्ट है जो सबसे पहले साइंटिस्ट वेन हेसिंगर ने 1864 मे डॉक्युमेंट किया था। उन्होंने इसे एक कान में ही पाया था लेकिन जिन लोगों के साथ ऐसा होता है, उनमें से 50 फीसदी लोगों के दोनों कान पर छेद देखा गया है।

अगर आप दुनिया की कुल आबादी का एक फीसदी हैं तो चिंता की कोई बात नहीं। यह किसी प्रॉब्लम की तरफ इशारा नहीं है बल्कि कुछ ऐसा है जिसे आसानी से खत्म किया जा सकता है। एंटीबायोटिक्स से इसे दूर किया जा सकता है। हालांकि अधिकतर मौकों पर साइनस को दूर करने के लिए सर्जरी की जरूरत पड़ती है।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: यह है दुनिया की 'एकमात्र कामसूत्र' की पाठशाला।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.