डब्ल्यूएचओ की टीम ने स्वास्थ्य केंद्रों का निरीक्षण किया शिविर में 225 लोगों का स्वास्थ जांचा स्वास्थ्य केंद्र मंडकौला में पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन चातुर्मास धर्म ध्यान करने का मौसम है कालीचरण सराफ ने अरबन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का उद्घाटन किया राजपुताना प्रीमियर लीक में मैच फिक्सिंग/ स्पोर्ट्स फिक्सिंग गैंग का पर्दापास कर 14 गिरफ्तार एंव 38 लाख 47 हज़ार रुपये जब्त जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य सेवा 555 के डिपो प्वाइंट का उद्घाटन किया राष्ट्रपति रामनाथ कोविंदा को मुख्यमंत्री वंसुधरा राजे ने दी बधाई राजस्थान राज्य का धौलपुर होगा चिल्ड्रन फे्रन्डली जिला: मनन चतुर्वेदी बर्थडे स्पेशल: नसीरुद्दीन शाह ने अपने ख्वाबों को सच कर दिखाया, जानिए पर्सनल लाइफ से जुड़े फैक्ट्स LIVE महिला वर्ल्ड कप: ऑस्ट्रेलिया ने 18 ओवर में 3 विकेट के नुकसान पर बनाये 92 रन उदयपुर-हरिद्वार रेल सेवा सोमवार 24 जुलाई से होगी प्रारंभ: सी.पी.जोशी खुशखबरी: अभिनेत्री सनी लियोनी बनीं मां, जानें क्या है बच्चे का नाम... LIVE महिला वर्ल्ड कप: भारत ने ऑस्ट्रेलिया को तीसरा झटका दिया विद्यार्थियों की वैज्ञानिक प्रतिभा के विकास हेतु होगा विज्ञान मेलों का आयोजन कैमूर के जंगल में ले जाकर किया किशोरी का गैंगरेप, एक गिरफ्तार LIVE महिला वर्ल्ड कप: भारत ने ऑस्ट्रेलिया को पहला झटका दिया तेज धुप और लू के कारण शरीर में पानी की कमी को पूरा करने के लिए जानिए ये आसान उपाय उत्तर प्रदेश: कांवड़ियों के शिविर पर गिरी आकाशीय बिजली jio आने के बाद हर तिमाही में हो रहा है Airtel को 550 करोड़ रुपये का नुकसान
जन्म से ही कुछ लोगों के कान पर होता है छेद, जाने वजह
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 01:55:29 PM
1 of 1

नई दिल्ली। दुनिया में जन्म लेने वाले कुल लोगों में से कुछ ही ऐसे होते हैं जो अपने कान पर एक छेद के साथ पैदा होते हैं। यह छेद कई बार मुश्किल से ही दिखाई देता है। ऐसे लोग जिस चीज के साथ पैदा होते हैं, उसे प्रीयूरीक्यूलर साइनस कहते हैं। यूके में, सिर्फ 1 फीसदी लोगों के साथ ऐसा है। यूएस में यह फ्रीक्वेंसी और भी कम है और भारत सहित एशिया, अफ्रीका के हिस्सों में 4 से 10 फीसदी लोग इससे इफेक्टेड होते हैं।

यह छेद ग्रंथि, खरोंच या डिंपल होता है जो खास तौर से उन जगहों पर होता है जहां चेहरे और कान की नरम हड्डी मिलती है। प्रीयूरिक्यूलर साइनस तकनीकी रूप से एक अनुवांशिक बर्थ डिफेक्ट है जो सबसे पहले साइंटिस्ट वेन हेसिंगर ने 1864 मे डॉक्युमेंट किया था। उन्होंने इसे एक कान में ही पाया था लेकिन जिन लोगों के साथ ऐसा होता है, उनमें से 50 फीसदी लोगों के दोनों कान पर छेद देखा गया है।

अगर आप दुनिया की कुल आबादी का एक फीसदी हैं तो चिंता की कोई बात नहीं। यह किसी प्रॉब्लम की तरफ इशारा नहीं है बल्कि कुछ ऐसा है जिसे आसानी से खत्म किया जा सकता है। एंटीबायोटिक्स से इसे दूर किया जा सकता है। हालांकि अधिकतर मौकों पर साइनस को दूर करने के लिए सर्जरी की जरूरत पड़ती है।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: यह है दुनिया की 'एकमात्र कामसूत्र' की पाठशाला।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.