कश्मीरा-कृष्णा ने गोवा में की मस्ती, देखें तस्वीरें भारत में लॉन्च हुआ ड्यूल डिस्प्ले के साथ HTC U Ultra और U Play तेलंगाना के CM ने तिरुमाला में दान किए 5 करोड़ के आभूषण परिवार में झगड़े के कारण कांग्रेस से किया गठबन्धन: अखिलेश अजरबैजान के राष्ट्रपति ने अपनी पत्नी को बनाया उपराष्ट्रपति BS-IV इंजन के साथ सुजुकी ने भारत में लांच किये नए टू-व्हीलर 66 रुपये की गिरावट के साथ सोना हुआ 29,235 रुपये किम जोंग नाम की हत्या के मामले में जांचकर्ताओं ने उत्तर कोरिया के राजनयिक को बनाया वांछित Sanjeevni Today: Top Stories of 1pm Facebook पर सबसे ज्यादा फॉलो किए जाने वाले दुनिया के पहले नेता बने मोदी प्रियंका चोपड़ा ने पब्लिक प्लेस पर किया ये काम, दखें तस्वीरें 1000 रुपए का नोट जारी करने की योजना नहीं, सिर्फ 500 के नोटों की होगी सप्लाई: दास ब्रिटेन में शिक्षा की चाह रखने वाले इंडियन स्टूडेंट्स के लिए ख़ुशी की खबर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विराट तोड़ सकते हैं सचिन का ये बड़ा रिकॉर्ड परिवार के झगड़े ने कराया सपा- कांग्रेस का गठबंधन: अखिलेश यादव सोनम कपूर ने करवाया Bridal फोटोशूट, देखें तस्वीरें जानिए, IT सेक्टर में फ्रेशर्स को कम सेलेरी मिलने का कारण मतदान करना हमारा सबसे बड़ा अधिकार है: प्रियंका चोपड़ा बिहार: विधानसभा में गूंजेगा सेक्स रैकेट का मुद्दा, पीड़ित ने लगाई इंसाफ की गुहार श्रीलंका दौरे के लिए बांग्लादेश की 16 सदस्यीय टीम का हुआ ऐलान
जन्म से ही कुछ लोगों के कान पर होता है छेद, जाने वजह
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 01:55:29 PM
1 of 1

नई दिल्ली। दुनिया में जन्म लेने वाले कुल लोगों में से कुछ ही ऐसे होते हैं जो अपने कान पर एक छेद के साथ पैदा होते हैं। यह छेद कई बार मुश्किल से ही दिखाई देता है। ऐसे लोग जिस चीज के साथ पैदा होते हैं, उसे प्रीयूरीक्यूलर साइनस कहते हैं। यूके में, सिर्फ 1 फीसदी लोगों के साथ ऐसा है। यूएस में यह फ्रीक्वेंसी और भी कम है और भारत सहित एशिया, अफ्रीका के हिस्सों में 4 से 10 फीसदी लोग इससे इफेक्टेड होते हैं।

यह छेद ग्रंथि, खरोंच या डिंपल होता है जो खास तौर से उन जगहों पर होता है जहां चेहरे और कान की नरम हड्डी मिलती है। प्रीयूरिक्यूलर साइनस तकनीकी रूप से एक अनुवांशिक बर्थ डिफेक्ट है जो सबसे पहले साइंटिस्ट वेन हेसिंगर ने 1864 मे डॉक्युमेंट किया था। उन्होंने इसे एक कान में ही पाया था लेकिन जिन लोगों के साथ ऐसा होता है, उनमें से 50 फीसदी लोगों के दोनों कान पर छेद देखा गया है।

अगर आप दुनिया की कुल आबादी का एक फीसदी हैं तो चिंता की कोई बात नहीं। यह किसी प्रॉब्लम की तरफ इशारा नहीं है बल्कि कुछ ऐसा है जिसे आसानी से खत्म किया जा सकता है। एंटीबायोटिक्स से इसे दूर किया जा सकता है। हालांकि अधिकतर मौकों पर साइनस को दूर करने के लिए सर्जरी की जरूरत पड़ती है।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: यह है दुनिया की 'एकमात्र कामसूत्र' की पाठशाला।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.