loading...
0.19 अंक की बढ़ोतरी के साथ सेंसेक्स 31,109.47 के स्तर पर ससुर को धोखा देकर बाइक सवार के साथ पुत्रवधू हुई फरार Alert: 20 से 25 लश्करी आतंकी भारत में घुसे, बड़े हमले की फिराक में आतंकी 1 जून से SBI करने जा रहा है अपने सर्विस चार्ज में बदलाव, जानिए क्या? असम में पुल बनने से चीन परेशान, भारत से संयमित और नपा तुला रूख कायम रखने को कहा जीएसटी एक कुशल कर प्रणाली है, जो न सिर्फ कर चोरी को रोकेगा बल्कि भारत को एक मज़बूत समाज बनने में मदद भी करेगा : अरुण जेटली ...तो शाहिद कपूर के भाई जाह्नवी कपूर को कर रहे है डेट बीजेपी नेता बर्नार्ड मराक का बयान, कहा- सत्ता में वापस आया तो सस्ता कर दूंगा 'बीफ' मोदी ने दिया यूरोप को आतंकवाद से सामना करने का सुझाव लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती समेत कई बड़े नेता बाबरी केस मामले में आज कोर्ट में होंगे पेश बिग बी आज करेंगे 'दरवाज़ा बंद' अभियान का शुभारंभ, अनुष्का शर्मा भी जोगी शामिल निक्केई में आई 0.5 प्रतिशत की गिरावट बांग्लादेश पहुंचा चक्रवाती तूफान 'मोरा', ओड़िशा, बंगाल समेत पूर्वोत्तर में हालात बिगड़ने की आशंका बहन से छेड़खानी करने वाले चचेरे भाई गिरफ्तार जलसा में आराध्या और ऐश्वर्या के साथ फैंस को हैलो करते नजर आए बिग बी प्रकाश जावड़ेकर ने रैगिंग से निपटने के लिए यूजीसी एप की शुरूआत अंतरराष्ट्रीय कोर्ट जाधव को न तो बरी कर रहा है और न ही दोषी ठहरा रहा है : पाक लूट के विरोध पर हुई थी काले की हत्या, तीन बदमाश चढ़े पुलिस के हत्थे रुपए में आई 6 पैसे की गिरावट श्रीलंका के बाढ़ प्रभावित इलाकों में मदद लिये के आगे आया भारत,180 की मौत,110 लापता
जन्म से ही कुछ लोगों के कान पर होता है छेद, जाने वजह
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 01:55:29 PM
1 of 1

नई दिल्ली। दुनिया में जन्म लेने वाले कुल लोगों में से कुछ ही ऐसे होते हैं जो अपने कान पर एक छेद के साथ पैदा होते हैं। यह छेद कई बार मुश्किल से ही दिखाई देता है। ऐसे लोग जिस चीज के साथ पैदा होते हैं, उसे प्रीयूरीक्यूलर साइनस कहते हैं। यूके में, सिर्फ 1 फीसदी लोगों के साथ ऐसा है। यूएस में यह फ्रीक्वेंसी और भी कम है और भारत सहित एशिया, अफ्रीका के हिस्सों में 4 से 10 फीसदी लोग इससे इफेक्टेड होते हैं।

यह छेद ग्रंथि, खरोंच या डिंपल होता है जो खास तौर से उन जगहों पर होता है जहां चेहरे और कान की नरम हड्डी मिलती है। प्रीयूरिक्यूलर साइनस तकनीकी रूप से एक अनुवांशिक बर्थ डिफेक्ट है जो सबसे पहले साइंटिस्ट वेन हेसिंगर ने 1864 मे डॉक्युमेंट किया था। उन्होंने इसे एक कान में ही पाया था लेकिन जिन लोगों के साथ ऐसा होता है, उनमें से 50 फीसदी लोगों के दोनों कान पर छेद देखा गया है।

अगर आप दुनिया की कुल आबादी का एक फीसदी हैं तो चिंता की कोई बात नहीं। यह किसी प्रॉब्लम की तरफ इशारा नहीं है बल्कि कुछ ऐसा है जिसे आसानी से खत्म किया जा सकता है। एंटीबायोटिक्स से इसे दूर किया जा सकता है। हालांकि अधिकतर मौकों पर साइनस को दूर करने के लिए सर्जरी की जरूरत पड़ती है।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: यह है दुनिया की 'एकमात्र कामसूत्र' की पाठशाला।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.