यहां लुक नही है मायने, है एक-दूसरे से बिल्कुल अलग फिर भी है साथ, ऐसे है यह कपल..! 7वां वेतन आयोग: बढ़ेगा कर्मचारियों का महंगाई भत्ता और एचआरए..! यूपी चुनाव में सबसे खूबसूरत उम्मीदवार, जो है काफी चर्चा में, तस्वीरें वायरल यहां बीमारी से पीड़ित लोगों को किडनैप कर, उनकी बॉडी पार्ट्स से बनाई जाती हैं दवाइयां..! संभल मे दस वर्षीय मासूम के साथ दुष्कर्म, पुलिस मामला दबाने मे जुटी मुख्यमंत्री को जब स्कूली बच्चों ने ’शिक्षक’ बनकर पढ़ाया... ट्रेन से कटकर वृद्ध की मौत गोमती नदी में डूबा छात्र, हंगामा नोटबंदी राष्ट्रहित में एक बड़ा फैसला : मनोज सिन्हा संदिग्ध परिस्थितियों में विवाहिता की मौत, दहेज हत्या का आरोप शेयर बाजार में आई तेजी, सेंसेक्स में 100 अंकों का उछाल सपा-बसपा ने राजनीति में फैलाया कीचड़, अब खिलेगा कमल: राजनाथ मुख्यमंत्री के साथ दिव्यांग बच्चों ने साझा किए अपने बड़े सपने एक साल में 82000 धनाढ्यों ने छोड़ा देश पुलिस व सीआरपीएफ ने डकैत को दबोचा विजय माल्या को भारत लाने की मुहिम तेज एचआईएल : रांची ने मेजबान दिल्ली को 6-2 से हराया झांसा देकर शादीशुदा का यौन शोषण 19 वाहन प्रदूषण जांच केन्द्रों की मान्यता रद्द ओवैसी ने भाजपा पर मुसलमानों से भेदभाव का लगाया आरोप
इस गांव में बोली जाती है हमारी मातृभाषा, यहां चाहे हिन्दू हो या मुसलमान सब संस्कृत बोलते है।
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 06:12:35 AM
1 of 1

नई दिल्ली। संस्कृत को देवों की भाषा कहा जाता है। इसके अलावा संस्कृत को भारतीय और यूरोपीय भाषाओं की जननी भी माना जाता है। संस्कृत भाषा का इतिहास बहुत पुराना है, लेकिन आज के बदलते दौर में संस्कृत बोलने वाले लोगों का अकाल सा पड़ गया है। लेकिन कर्नाटक स्थित मत्तूर गांव एक ऐसा गांव है। जहां आज भी संस्कृत बोली जाती है। इस गांव का हर एक व्यक्ति संस्कृत भाषा का उच्चारण करता है। चाहे वो हिंदू हो या मुसलमान। इस गांव में संस्कृत भाषा प्राचीनकाल से बोली जाती है। इस गांव में न तो कोई रेस्तरां है न ही कोई गेस्ट हाउस लेकिन फिर भी संस्कृत भाषा बोले जाने के लिए यह बेहद प्रसिद्ध गांव माना जाता है। यह पूरी दुनिया में एक ही ऐसा गांव है जहां संस्कृत भाषा का उच्चारण बखूबी से किया जाता है। यहां पर रहने वाले लोग अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में संस्कृत भाषा का इस्तेमाल करते हैं।

 20 दिन का एक कोर्स रखा जाता है यहां.. 
जिन लोगों को यहां संस्कृत बोलनी नहीं आती उनके लिए 20 दिन का एक कोर्स रखा जाता है। इन 20 दिनों में एक अच्छी संस्कृत भाषा का ज्ञान दिया जाता है। और वो भी मुफ्त में। इस गांव के कुछ लोग संस्कृत भाषी युवा आईटी इंजीनियर हैं। कुछ बड़ी-बड़ी कंपनियों में काम करते हैं तो कुछ इंजीनियर। इस गांव की खासियत को अपनाने के लिए विदेशों से भी लोग इस गांव में आते हैं और यह माना जाता है कि यह दुनिया का संस्कृत बोले जाने वाला इकलौता गांव है । 3,500 जनसंख्या वाले इस गांव में संस्कृत भाषा का जन्म ऐसे ही नहीं हुआ बल्कि यह आंदोलन के तौर पर जन्मा एक इतिहास है। इस गांव में वाणिज्य विषय पढ़ाने वाले प्रोफेसर एमबी श्रीनिधि का कहना है कि पेजावर मठ के स्वामी ने इसे संस्कृत भाषी गांव बनाने का आह्वान किया, हम सबने संस्कृत में बातचीत करने का निर्णय लिया और एक नकारात्मक प्रचार को सकारात्मक मोड़ दे दिया। मात्रा 10 दिनों तक संस्कृत बोले जाने के लिए दो घंटे का अभ्यास किया जाने लगा और इस तरह से पूरा गांव संस्कृत में बातचीत करने लगा। लेकिन संस्कृत भाषा को इस तरह से महत्व देना सही में मायने में काबिले तरीफ है।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े....रेलवे का नया फैसला, अब बिना आधार के नहीं मिलेगा ट्रेन में रिजर्वेशन

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.