देश और दुनिया के इतिहास में 28 जुलाई की महत्वपूर्ण घटनाएं जानिए खीरे के स्वास्थ्यवर्द्धक और सौन्दर्यवर्द्धक गुण किशमिश स्वास्थ्य के लिए बड़ी ही लाभदायक लगातार ब्रैड के सेवन से स्वास्थ्य के लिए हानिकारक इस तरह करे प्याज का सेवन, होंगे अनेक फायदे रोजाना खाली पेट लहसुन खाने के फायदे जान दंग रह जाएंगे आप... अपहरण के बाद पांच लाख रुपये की फिरौती मांगी अवैध शराब सहित तीन आरोपी गिरफ्तार स्वाइन फ्लू की दस्तक से हिल गया स्वास्थ्य विभाग व्यापार और घर में भी धर्म का पालन करना जरूरी मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य के प्रति लोगों को जागरुक करने की जरुरत बच्चों के स्वास्थ्य की जांच करेगी मोबाइल हेल्थ टीम डॉ.पीके शर्मा ने कहा- स्वास्थ्य की तरह मिट्टी की जांच भी करवानी जरूरी प्रतापगढ़ जिले के कल्पेश राज सोनी को मिला ग्लोबल बिजनेस लीडरशिप अवार्ड राहुल जौहरी को एसजीएम से बाहर करने पर बीसीसीआई पदाधिकारियों को नोटिस SSC CGL 2017 के Admit Card जारी PM मोदी ने भारतीय महिला टीम से की मुलाकात, कहा- 125 करोड़ भारतीयों ने उठाया हार का बोझ ससुराल वालों की प्रताड़ना से परेशान युवक ने खाया जहर, मौत सभी पाठ्यपुस्तकें राज्य के SIRT द्वारा तैयार पाठ्यक्रम के अनुरूप हो: वासुदेव देवनानी सस्ते फ्लैट का झांसा देकर करोड़ों की ठगी करने वाला एक ग‌िरफ्तार
इस गांव में बोली जाती है हमारी मातृभाषा, यहां चाहे हिन्दू हो या मुसलमान सब संस्कृत बोलते है।
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 06:12:35 AM
1 of 1

नई दिल्ली। संस्कृत को देवों की भाषा कहा जाता है। इसके अलावा संस्कृत को भारतीय और यूरोपीय भाषाओं की जननी भी माना जाता है। संस्कृत भाषा का इतिहास बहुत पुराना है, लेकिन आज के बदलते दौर में संस्कृत बोलने वाले लोगों का अकाल सा पड़ गया है। लेकिन कर्नाटक स्थित मत्तूर गांव एक ऐसा गांव है। जहां आज भी संस्कृत बोली जाती है। इस गांव का हर एक व्यक्ति संस्कृत भाषा का उच्चारण करता है। चाहे वो हिंदू हो या मुसलमान। इस गांव में संस्कृत भाषा प्राचीनकाल से बोली जाती है। इस गांव में न तो कोई रेस्तरां है न ही कोई गेस्ट हाउस लेकिन फिर भी संस्कृत भाषा बोले जाने के लिए यह बेहद प्रसिद्ध गांव माना जाता है। यह पूरी दुनिया में एक ही ऐसा गांव है जहां संस्कृत भाषा का उच्चारण बखूबी से किया जाता है। यहां पर रहने वाले लोग अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में संस्कृत भाषा का इस्तेमाल करते हैं।

 20 दिन का एक कोर्स रखा जाता है यहां.. 
जिन लोगों को यहां संस्कृत बोलनी नहीं आती उनके लिए 20 दिन का एक कोर्स रखा जाता है। इन 20 दिनों में एक अच्छी संस्कृत भाषा का ज्ञान दिया जाता है। और वो भी मुफ्त में। इस गांव के कुछ लोग संस्कृत भाषी युवा आईटी इंजीनियर हैं। कुछ बड़ी-बड़ी कंपनियों में काम करते हैं तो कुछ इंजीनियर। इस गांव की खासियत को अपनाने के लिए विदेशों से भी लोग इस गांव में आते हैं और यह माना जाता है कि यह दुनिया का संस्कृत बोले जाने वाला इकलौता गांव है । 3,500 जनसंख्या वाले इस गांव में संस्कृत भाषा का जन्म ऐसे ही नहीं हुआ बल्कि यह आंदोलन के तौर पर जन्मा एक इतिहास है। इस गांव में वाणिज्य विषय पढ़ाने वाले प्रोफेसर एमबी श्रीनिधि का कहना है कि पेजावर मठ के स्वामी ने इसे संस्कृत भाषी गांव बनाने का आह्वान किया, हम सबने संस्कृत में बातचीत करने का निर्णय लिया और एक नकारात्मक प्रचार को सकारात्मक मोड़ दे दिया। मात्रा 10 दिनों तक संस्कृत बोले जाने के लिए दो घंटे का अभ्यास किया जाने लगा और इस तरह से पूरा गांव संस्कृत में बातचीत करने लगा। लेकिन संस्कृत भाषा को इस तरह से महत्व देना सही में मायने में काबिले तरीफ है।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े....रेलवे का नया फैसला, अब बिना आधार के नहीं मिलेगा ट्रेन में रिजर्वेशन

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.