loading...
loading...
loading...
GOOGLE की सहायता से सिद्धू देंगे पंजाबी संस्कृति को बढ़ावा दूल्हे की सच्चाई का पता चला तो दुल्हन रह गई सन्न बारिश में भीगते हुए करीना की ये तस्वीरें हुई वायरल, देखें तस्वीरें सिर्फ 100 रुपए के लिए शराबी बेटे ने कर दी मां की हत्या सीरिया के मयादीन में स्थित आईएस संचालित जेल पर हमला ,60 लोगों की मौत तीन दिवसीय विदेश यात्रा पूरी कर लौटे मोदी, सुषमा ने किया एयरपोर्ट पर स्वागत शिवसेना ने बांधे मोदी की तारीफों के पुल, कहा- उनके शब्दों में निश्चित ही दम है Video: 'टॉयलेट- एक प्रेम कथा' का गाना हंस मत पगली... रिलीज यहां पर एक ऐसे बच्चे ने लिया जन्म जिसका नहीं है सिर! अपराधी लड़की ने कारोबारी को शराब पिलाकर कर दिया अचेत और फिर... 1.61% की गिरावट के साथ नैस्डेक 6146.62 पर बंद राष्ट्रपति चुनाव: सोनिया मनमोहन की मौजूदगी में मीरा कुमार ने भरा नामांकन डॉलर के मुकाबले रुपए में आई 2 पैसे की गिरावट वेनेजुएला के सुप्रीम कोर्ट पर आंतकी हमला कानून व्यवस्था को लेकर योगी सरकार को 100 में से 1 नंबर दूंगी: मायावती ऑटो से उतरते वक्त अपराधियों ने युवती के हाथ छीना मोबाइल और फिर... जीएसटी लागू करने की तैयारी पूरी, पर्लियमेंट के सेंट्रल हॉल में हो रहा है रिहर्सल सुरक्षा व्यवस्था के लिए US देगा भारत को संसाधन और तकनीक: अमेरिकी उपराष्ट्रपति शाहरुख़ के साथ करने से करीना ने किया इंकार, ये है वजह एक ऐसा किला जिसकी दीवारों से टपकता था खून और रात में...
OMG: इस औरत को ये कैसी बीमारी, धीरे-धीरे बन रही हैं पत्थर!
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 05:02:59 PM
1 of 1

नई दिल्ली। अगर आपको यह सुनने को मिले कि एक महिला धीरे-धीरे पत्थर की बनती जा रही है और उसे पता है कि एक दिन मृत्यु निश्चित है और उसे दर्द भी काफी होता है इसके बावजूद वह जिंदगी का हर पल दिल खोलकर जीना चाहती है। आज दुनिया में एक से एक बीमारियां उत्पन्न हो रही हैं। कई बीमारियों का इलाज तो वैज्ञानिक आज भी नहीं खोज पाए हैं। 

 

दुनिया में आपने इबोला, कैंसर, एडस आदि लाइलाज बीमारियों के बारे में सुना होगा लेकिन यह तो उससे भी खतरनाक है क्योंकि इन बीमारियों का दर्द कम करने के लिए दवाइयां तो उपलब्ध है लेकिन इसके लिए तो कोई दवाई उपलब्ध नहीं है। सोचो वह उस दर्द को कैसे सहती होगी। यह मामला है 32 साल की एशले कर्पील का जो फाइब्रोडिसप्लासिया ऑसिफिकन्स प्रोग्रेसिवा नाम की बीमारी से जूझ रही हैं। 

इसके कारण इसका शरीर धीरे-धीरे पत्थर जैसा क़डक होता जा रहा है। दु:ख की बात यह है कि इसका कोई इलाज भी नहीं है। एशले का दायां हाथ और कंधा पहले ही काटा जा चुका है और अब इन्हें चलने फिरने में भी बहुत दिक्कत होती है क्योंकि इसका दर्द असहनीय है। इस बीमारी के कारण इनकी मांस पेशियां हड्डियों की तरह कड़ी होती जा रही हैं। 

बीमारी न केवल मांस पेशियों पर बल्कि शरीर के लिगामेंट और टिशू पर भी भारी असर डाल रही है। छोटी सी भी चोट इस बीमारी को और बढ़ा सकती है। लेकिन इन सब के बावजूद वे अपनी जिंदगी पूरे जोश के साथ जीती हैं। वो कहती हैं, मैं एक जीता जागता कंकाल बनती जा रही हूं। मुझे नहीं पता मैं कितने दिन चल फिर पाउंगी इसलिए मैं हर लम्हा जीना चाहती हूं। एशले सफिंग की काफी शौकीन हैं और हर साल पानी में स्केटबोर्ड की सवारी करने जरूर जाती हैं। 

उन्हें दुनिया घूमना पंसद है और लोगों से मिलकर उन्हें खुशी होती है। यहां तक कि वे दलाई लामा से भी मिल चुकी हैं। वे अपने जैसे और मरीजों के परिवारों से भी मिलती हैं, उनकी परेशानियां सुनती हैं और उनके सवालों के जवाब देती हैं। वे जब सिर्फ ढाई साल की थीं जब उनकी इस बीमारी का पता चला था। डॉक्टरों को लगा था कि उन्हें ट्यूमर है लेकिन जल्द ही वे असली समस्या पहचान गए। 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.