गंभीर का बयान, कहा- दिग्गज युवी की टीम में वापसी मुश्किल प्रेमी की बाहों में पत्नी को निर्वस्‍त्र देखकर, दोनों को गोली मारकर की हत्या टी-90 टैंकों को तीसरी पीढ़ी की मिसाइल प्रणाली से लैस कर और सक्षम बनाने की परियोजना दोस्त की पत्नी से संबंद बनाना पड़ा महंगा, गवाई जान रोहित शर्मा हुए अनोखे अंदाज में रन आउट, हर कोई हैरान अवैध हथियार बनाने की फैक्ट्री पर मारा छापा, आरोपी हुआ गिरफ्तार IGI एयरपोर्ट पर एक महिला के पास से 38 लाख रुपये की विदेशी करेंसी जब्त राजनाथ सिंह ने लखनऊ में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी के कार्यालय व आवास परिसर का किया उद्घाटन बर्मिंघम टेस्ट में इंग्लैंड की रिकॉर्ड जीत, वेस्टइंडीज को पारी व 209 से हराया अप्रैल में नहीं जनवरी में ही रिलीज होगी रजनीकांत-अक्षय की 2.0 सुख का खजाना LIVE INDvsSL: भारत ने श्रीलंका को 9 विकेट से रौंदा, धवन (132) और कोहली (82) रन की पारी खेली शाहिद कपूर ने की अपनी सेक्सी टॉपलेस फोटो शेयर LIVE INDvsSL: धवन ने जड़ी 72 गेंदों पर सेंचुरी, कोहली का अर्धशतक, 150 रन की साझेदारी 22 अगस्त को बैंककर्मियों की देश भर में हड़ताल मोदी को लेकर नरम पड़ी ममता बनर्जी, शाह को बताया खलनायक LIVE INDvsSL: भारत के 'गब्बर' का दांबुला मैदान पर जलवा, 58 गेंदों पर 76 रन बना लिए प्रभास दीपिका के नहीं अब श्रद्धा के साथ करेंगे रोमांस, श्रद्धा ने इस फिल्म पर काम किया शुरू मसाज पार्लर में गोरी चमड़ी वाली लड़कियों की भारी डिमांड अगर आप जियो का 399 का रिचार्ज करा रहे है तो ये न्यूज़ जरूर पढ़े
OMG: इस औरत को ये कैसी बीमारी, धीरे-धीरे बन रही हैं पत्थर!
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 05:02:59 PM
1 of 1

नई दिल्ली। अगर आपको यह सुनने को मिले कि एक महिला धीरे-धीरे पत्थर की बनती जा रही है और उसे पता है कि एक दिन मृत्यु निश्चित है और उसे दर्द भी काफी होता है इसके बावजूद वह जिंदगी का हर पल दिल खोलकर जीना चाहती है। आज दुनिया में एक से एक बीमारियां उत्पन्न हो रही हैं। कई बीमारियों का इलाज तो वैज्ञानिक आज भी नहीं खोज पाए हैं। 

 

दुनिया में आपने इबोला, कैंसर, एडस आदि लाइलाज बीमारियों के बारे में सुना होगा लेकिन यह तो उससे भी खतरनाक है क्योंकि इन बीमारियों का दर्द कम करने के लिए दवाइयां तो उपलब्ध है लेकिन इसके लिए तो कोई दवाई उपलब्ध नहीं है। सोचो वह उस दर्द को कैसे सहती होगी। यह मामला है 32 साल की एशले कर्पील का जो फाइब्रोडिसप्लासिया ऑसिफिकन्स प्रोग्रेसिवा नाम की बीमारी से जूझ रही हैं। 

इसके कारण इसका शरीर धीरे-धीरे पत्थर जैसा क़डक होता जा रहा है। दु:ख की बात यह है कि इसका कोई इलाज भी नहीं है। एशले का दायां हाथ और कंधा पहले ही काटा जा चुका है और अब इन्हें चलने फिरने में भी बहुत दिक्कत होती है क्योंकि इसका दर्द असहनीय है। इस बीमारी के कारण इनकी मांस पेशियां हड्डियों की तरह कड़ी होती जा रही हैं। 

बीमारी न केवल मांस पेशियों पर बल्कि शरीर के लिगामेंट और टिशू पर भी भारी असर डाल रही है। छोटी सी भी चोट इस बीमारी को और बढ़ा सकती है। लेकिन इन सब के बावजूद वे अपनी जिंदगी पूरे जोश के साथ जीती हैं। वो कहती हैं, मैं एक जीता जागता कंकाल बनती जा रही हूं। मुझे नहीं पता मैं कितने दिन चल फिर पाउंगी इसलिए मैं हर लम्हा जीना चाहती हूं। एशले सफिंग की काफी शौकीन हैं और हर साल पानी में स्केटबोर्ड की सवारी करने जरूर जाती हैं। 

उन्हें दुनिया घूमना पंसद है और लोगों से मिलकर उन्हें खुशी होती है। यहां तक कि वे दलाई लामा से भी मिल चुकी हैं। वे अपने जैसे और मरीजों के परिवारों से भी मिलती हैं, उनकी परेशानियां सुनती हैं और उनके सवालों के जवाब देती हैं। वे जब सिर्फ ढाई साल की थीं जब उनकी इस बीमारी का पता चला था। डॉक्टरों को लगा था कि उन्हें ट्यूमर है लेकिन जल्द ही वे असली समस्या पहचान गए। 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.