loading...
देश में एक साथ चुनाव करवाना कितना फायदेमंद हो सकता है ? कैटरीना ने खोला राज, 'चिकनी चमेली' से क्यों शरमा रहे थे संजय दत्त! स्वतंत्रता सेनानी लक्ष्मीनारायण झरवाल की पार्थिव देह पंचतत्व में विलीन नौ लाख कम्पनिया नहीं दे रही है सालाना रिटर्न का ब्यौरा : हसमुख अधिया प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना: अरहर और मक्का फसल का होगा बीमा किसानों को राहत IPL-10 DD VS KXIP: किंग्स इलेवन पंजाब ने टॉस जीतकर किया बॉलिंग का फैसला, दिल्ली चायेगी प्रीति जिंटा के शेरो को रोकना जन-जागरूकता का प्रयास जरूरी आईवान ग्रेगरी मैन बने उत्तराखंड विधानसभा के एंग्लो इंडियन सदस्य Video: पहली नजर में हुआ प्यार और कर ली शादी, ऐसा है ये कपल! जानिए, कैसे रिकॉर्ड करे अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन की स्क्रीन जुड़वा 2 के लिए जैकलिन ने अपनाया नया अवतार लोकसभा-विधानसभा चुनाव एक साथ करवाने के पक्ष में नीति आयोग 'द कपिल शर्मा शो' में दिखेगा सुमोना का ग्लैमरस अवतार IPL के अगले सीजन में खेलेगी राजस्थान रॉयल्स और चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम ...तो इसलिए छोड़ा श्रीजीता ने ब्वायफ्रैंड को अगले 2 साल में 10 लाख घर देगा ईपीएफओ Video: 'बेवॉच' के तीसरे ट्रेलर में दिखा प्रियंका का Action Look जानिए, इंश्योरेंस पॉलिसी जुड़े अपने अधिकार T-20 लीग: आज होगी कोलकाता और हैदराबाद के बीच भिड़ंत CM योगी से मिलने मंदिर पहुंचे नौतनवा के निर्दल विधायक अमनमणि त्रिपाठी
सिर्फ इशारो से होती है बातें है इस गांव में, सात पीढियो से चल रहा रिवाज
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 09:23:52 AM
1 of 1

इंडोनेशिया। इंडोनेशिया में एक गांव हैं बेंगकला। इस गांव के लोग पिछली सात पीढ़ियों से मुंह से बोलने की बजाए हाथों के इशारों से ही बातें करते हैं। इस गांव के लोगों को डीफ विलेज के नाम से भी जाना जाता है। साथ ही हैरान करने वाली बात ये भी है कि गांव के रहने वाले ही नहीं, बल्कि यहा कं कई ऑफिस में भी इसी तरह से इंडोनेशिया में एक गांव हैं बेंगकला। इस गांव के लोग पिछली सात पीढ़ियों से मुंह से बोलने की बजाए हाथों के इशारों से ही बातें करते हैं। इस गांव के लोगों को डीफ विलेज के नाम से भी जाना जाता है।

ऑफिस में भी इसी तरह से हाथों के इशारों से ही कार्य
साथ ही हैरान करने वाली बात ये भी है कि गांव के रहने वाले ही नहीं, बल्कि यहा कं कई ऑफिस में भी इसी तरह से हाथों के इशारों से ही कार्य चलता है। बाहरी लोग यहां कम ही आते हैं। इसलिए स्थानीय लोग ही यहा की सारी व्यवस्था संभालते हैं। बताया जाता है कि इस सांकेतिक भाषा को काटा कोलोक कहा जाता है। यह सांकेतिक भाषा सैकड़ों साल पुरानी है। इस गांव के अधिकतर लोग बोलने और सुनने में सझम नही हैं और ये समस्या यहां सामान्य से पंद्रह गुना ज्यादा है। यहां के बच्चे जन्म से ही सुनने और बोलने की बीमारी से ग्रस्त होते हैं। यहां कि भौगोलिक स्थिति को इसका कारण बताया गया है।

यह भी पढ़े : लापरबाही के कारण बिल्ली की मौत, महिला ने डॉक्टर पर ठोका ढाई करोड़ का मुकदमा..!

यह भी पढ़े : 68 की उम्र में कर रहा है 9वीं शादी वो भी 28 साल की लड़की से ... ऐसे शुरू हुई कहानी

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.