संघर्ष और आपदाओं से प्रभावित लोगों के लिए UNO ने मांगी 22.2 अरब डॉलर की वैश्विक मदद स्टार स्क्रीन अवार्ड में बिग बी, आलिया को मिले शीर्ष सम्मान! तीन छात्रों ने की जूनियर्स की रैगिगं, प्रशासन ने छात्रों को किया निष्कासित केजरीवाल 20 दिसम्बर को भोपाल में करेंगे विशाल परिवर्तन रैली चाय वाला राजू रातों रात बना करोड़पति बद्रीनाथ की दुल्हनिया करेगी, माधुरी के तम्मा तम्मा पर डांस! सोना गिरा, चांदी मे आया सुधार आईएस ने बगदादी का उत्तराधिकारी चुनने को बैठक की! प्रवर्तन निदेशालय ने मनीलांड्रिंग मामले में दो बैंक अधिकारियों को किया गिरफ्तार फरहान अख्तर ने अक्षय के साथ फिल्म में काम करने से किया मना! भारतीय ऊर्जा कंपनियों से प्रधानमंत्री का बहुराष्ट्रीय कंपनी बनने का आहवान 'क्रैक' मैं अक्षय कुमार के साथ नज़र आएंगी ये एक्ट्रेस! मोदी एक बार फिर टाइम पर्सन ऑफ़ द ईयर नोटबंदी के बाद बैंकों में लौटे 3.4 % जाली नोट नोटबंदी की हिमाकत कर रहे लोगों को जनता सिखाएगी सबक : अखिलेश जल्दी ही लॉजी स्टेपवे का नया संस्करण लॉन्च करेगी Renault दिल्ली सरकार की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में 12 दिसंबर को होगी सुनवाई विषय पर तत्काल चर्चा शुरू की जाए: राजनाथ सिंह आलिया को मिला सर्वश्रेष्ठ एक्ट्रेस का पुरस्कार बारातियों से भरी बस ट्रक में घुसी, तीन की मौत
इस शहर में बीते 10 सालों से नहीं चल रहा कोई 'नोट' और ना ही बैंक ATM
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 02:12:58 PM
1 of 1

 

ऑरोविले/अकोदरा। भारत का एक ऐसा शहर जहां 10 साल से कई लोगों ने नोट की शक्ल तक नहीं देखी... एक ऐसा गांव जहां 10 रुपए की चाय से लेकर सिगरेट तक सभी का पेमेंट मोबाइल से होता है। इन दोनों ही जगह नोटबंदी के फैसले के बाद से लोगों में ना तो 500-1000 के नोट बदलवाने की टेंशन दिखी और ना डेली खर्चों पर कोई फर्क पड़ा। 

फिर चाहे चेन्नई से 150 किमी दूर मौजूद ऑरोविले शहर की बात करें या अहमदाबाद से 85 किमी दूर अकोदरा गांव की। इसकी वजह यहां की कैशलेस इकोनॉमी है। बता दें, ऑरोविले में तो नोटों का चलन तब से बंद है जब भारत में 500 रुपए के नोट छपने भी शुरु नहीं हुए थे। वहीं, अकोदरा में सबसे कम पढ़ा-लिखा इंसान भी आज मोबाइल से पेमेंट करता है। बता दें, देश में पहली बार 500 रुपए का नोट 1987 में आया था। 

कैसे होता है यहां कैशलेस ट्रांजैक्शन
1. 1968 में बने ऑरोविले इंटरनेशनल टाउन में 1985-86 में एक फाइनेंशियल सर्विस सेंटर स्टार्ट किया गया।
2. तब से ये RBI की परमिशन लेकर बैंक की तरह ही काम करता है। इसमें यहां रहने वाले लोग अपना पैसा ऑनलाइन या ऑफलाइन जमा कराते हैं।
3. इसके बदले ऑरोविले फाइनेंशियल सर्विस (AFS) एक अकाउंट नंबर देता है। 
4. AFS के इंचार्ज रत्नम के मुताबिक, ऑरोविले के करीब 200 कमर्शियल सेंटर और छोटी-बड़ी दुकानों पर इसी अकाउंट नंबर को बता के खरीददारी की जाती है।
5. वहीं, यहां आने वाले गेस्ट और वॉलिन्टियर के लिए डेबिट कार्ड की तरह एक ऑरो कार्ड जारी किया जाता है।
6. रत्नम का कहना है कि कुल मिलाकर ऑरोविले की सीमा के अंदर की दुकानों पर तो कैश से पेमेंट का कोई सिस्टम नहीं है लेकिन शहर के बाहर से जरूरी सामान मंगाने के लिए ऑनलाइन सुविधा ना होने पर कभी-कभी कैश पेमेंट करना पड़ता है। जरूरत पड़ने पर कुछ टूरिस्टों को भी इमोशनल ग्राउंड पर छूट दे दी जाती है। बता दें, ऑरोविले टाउन तमिलनाडु के विलुप्पुरम जिले में है। चेन्नई से इसकी दूरी 150 किमी और पुड्डुचेरी से 10 किमी है।

यह भी पढ़े: इस मॉल में सिर्फ बिकनी में नजर आती है औरतें, जाने वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: अमल में लाये ये बातें पार्टनर रखेगी हमेशा याद

यह भी पढ़े: यहां पर नौकरी के लिए लड़कियों से पूछा जाता है ये सवाल...

 



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.