MNP में अब नहीं होगी देरी, ट्राई बदलेगा नियम कुदरत का खेल: दिल की धड़कन 3 साल से बंद, फिर भी जिन्दा! राहुल गाँधी तुम्हारे पुरखे चले गए RSS की शिकायत करते-करते: बीजेपी तेलुगु सुपरस्टार नंदामुरी बालाकृष्ण को आया गुस्सा, जड़ा फैन को थप्पड़ सीकर में फौजी पर तेज धारदार हथियार से किया हमला, मौके पर ही मौत अखिलेश यादव पुलिस हिरासत से रिहा, कई जिलों में उग्र प्रदर्शन अमेरिकी कंपनियों को पसंद नहीं 'मेक इन अमेरिका' : ट्रंप इस बच्चे के शरीर पर अपने आप लग जाती है आग चंद्रशेखर को राजस्थान का संगठन महामंत्री बनाया एनएचएआई ने इलेक्ट्रोनिक टोल संग्रह के लिए फास्ट टैग की उपलब्धता सुगम करने के लिए उठाए कदम रोजाना 4 कप कॉफी का सेवन त्वचा कैंसर से रखता है दूर सड़को पर नमाज नहीं रोक सकता तो थानों में जन्माष्टमी क्यों रोकूं: योगी उत्तर प्रदेश मे कैदियों को रिहा करने की योजना तैयार, परिजनों को देख भर आई आंखें कतर के मुसलमान भी जा सकते है हज, सऊदी अरब ने खोला बॉर्डर महिलाएं भी अपराध करने में पुरषो से कम नहीं, अंजाम देने में माहिर दिमाग को स्वस्थ और तरोताजा बनाए रखने के लिए रोजाना करे ये काम... पूर्व राष्ट्रपति की बेटी को 1 रुपए किराये पर मिली थी जमीन, कांग्रेस सरकार फिर कठघरे में BF से छुटकारा पाने के लिए GF ने अपनाया ये अनोखा तरीका... पैनासोनिक ने लॉन्च किया Panasonic Eluga i2 Activ स्मार्ट फीचर्स के साथ लैक्मे फैशन वीक 2017: पहली बार रैंप पर उतरी दंगल गर्ल सान्य मल्होत्रा
इस शहर में बीते 10 सालों से नहीं चल रहा कोई 'नोट' और ना ही बैंक ATM
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 02:12:58 PM
1 of 1

 

ऑरोविले/अकोदरा। भारत का एक ऐसा शहर जहां 10 साल से कई लोगों ने नोट की शक्ल तक नहीं देखी... एक ऐसा गांव जहां 10 रुपए की चाय से लेकर सिगरेट तक सभी का पेमेंट मोबाइल से होता है। इन दोनों ही जगह नोटबंदी के फैसले के बाद से लोगों में ना तो 500-1000 के नोट बदलवाने की टेंशन दिखी और ना डेली खर्चों पर कोई फर्क पड़ा। 

फिर चाहे चेन्नई से 150 किमी दूर मौजूद ऑरोविले शहर की बात करें या अहमदाबाद से 85 किमी दूर अकोदरा गांव की। इसकी वजह यहां की कैशलेस इकोनॉमी है। बता दें, ऑरोविले में तो नोटों का चलन तब से बंद है जब भारत में 500 रुपए के नोट छपने भी शुरु नहीं हुए थे। वहीं, अकोदरा में सबसे कम पढ़ा-लिखा इंसान भी आज मोबाइल से पेमेंट करता है। बता दें, देश में पहली बार 500 रुपए का नोट 1987 में आया था। 

कैसे होता है यहां कैशलेस ट्रांजैक्शन
1. 1968 में बने ऑरोविले इंटरनेशनल टाउन में 1985-86 में एक फाइनेंशियल सर्विस सेंटर स्टार्ट किया गया।
2. तब से ये RBI की परमिशन लेकर बैंक की तरह ही काम करता है। इसमें यहां रहने वाले लोग अपना पैसा ऑनलाइन या ऑफलाइन जमा कराते हैं।
3. इसके बदले ऑरोविले फाइनेंशियल सर्विस (AFS) एक अकाउंट नंबर देता है। 
4. AFS के इंचार्ज रत्नम के मुताबिक, ऑरोविले के करीब 200 कमर्शियल सेंटर और छोटी-बड़ी दुकानों पर इसी अकाउंट नंबर को बता के खरीददारी की जाती है।
5. वहीं, यहां आने वाले गेस्ट और वॉलिन्टियर के लिए डेबिट कार्ड की तरह एक ऑरो कार्ड जारी किया जाता है।
6. रत्नम का कहना है कि कुल मिलाकर ऑरोविले की सीमा के अंदर की दुकानों पर तो कैश से पेमेंट का कोई सिस्टम नहीं है लेकिन शहर के बाहर से जरूरी सामान मंगाने के लिए ऑनलाइन सुविधा ना होने पर कभी-कभी कैश पेमेंट करना पड़ता है। जरूरत पड़ने पर कुछ टूरिस्टों को भी इमोशनल ग्राउंड पर छूट दे दी जाती है। बता दें, ऑरोविले टाउन तमिलनाडु के विलुप्पुरम जिले में है। चेन्नई से इसकी दूरी 150 किमी और पुड्डुचेरी से 10 किमी है।

यह भी पढ़े: इस मॉल में सिर्फ बिकनी में नजर आती है औरतें, जाने वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: अमल में लाये ये बातें पार्टनर रखेगी हमेशा याद

यह भी पढ़े: यहां पर नौकरी के लिए लड़कियों से पूछा जाता है ये सवाल...

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.