समाजवादी पेंशन योजना के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इनकार छोटे ने की बड़े भाई की हत्या, फरार विश्व जूनियर स्क्वैश चैंपियनशिप 2018 की मेजबानी करेगा भारत मुख्यमंत्री ने चुनाव से पहले शिवसेना के साथ गठबंधन करने का दिया संकेत तापसी पन्नू अपने फैन की शादी में होंगी शामिल राज्य क्रिकेट संघों के बारे में फैसले पर सफाई देने की अर्जी पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट संदिग्ध हालात में अधेड़ ने लगाई फांसी खेलमंत्री ने नेत्रहीन टी-20 विश्व कप जीतने पर भारतीय टीम को किया सम्मानित OMG: इस डांस में बुजुर्ग महिला की एनर्जी देखकर दंग रह जाएंगे आप :Watch video मीट कारोबारी मोईन कुरैशी और पूर्व सीबीआई निदेशक के खिलाफ FIR, छापेमारी ट्रेन की चपेट में आया युवक, मौत पायलट ने भाजपा सरकार पर भ्रष्टाचार का लगाया आरोप Alert: 5 सेकंड में चोरी हो सकता है आपका WhatsApp डाटा सुप्रीम कोर्ट की शरण में गायत्री प्रजापति, एफआईआर वापस लेने की अर्जी एक तरफा प्यार में पागल सैनिक ने प्रेमिका के मंगेतर को मारा जानिए पार्ले-जी के पैकेट पर बनी ये लड़की कौन है 'द कपिल शर्मा' शो पर वरुण ने किया अपनी दुल्हनिया को प्रपोज, देखें तस्वीरें कालिन्दी एक्सप्रेस के चालक सहित 4 कर्मचारी निलंबित अभिभाषण के लिए राज्यपाल विधानसभा जायेंगे विश्व महिला शतरंज के क्वार्टर फाइनल में पहुंची हरिका
अगर आपको गुस्सा आता है, तो आप स्वस्थ हैं।
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 05:05:49 AM
1 of 1

 
नई दिल्ली: अत्यधिक क्रोध को जापानी लोग बेहतर जैविक स्वास्थ्य से जोड़कर देखते हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के मनोविज्ञानी शिनोबु कितायामा के मुताबिक, 'क्रोध को बुरे स्वास्थ्य से जोड़कर देखना आमतौर पर पश्चिमी संस्कृति का हिस्सा है, जहां गुस्से को निराशा, निर्धनता, निम्र जीवन स्तर और उन सभी कारकों से जोड़कर देखा जाता है, जो स्वास्थ को नुकसान पहुंचाते हैं।' आम तौर पर यह माना जाता है कि क्रोध तन और मन दोनों के लिए नुकसानदायक होता है, लेकिन शोधकर्ताओं का कहना है कि कुछ संस्कृतियों में गुस्सा बुरे नहीं बल्कि अच्छे स्वास्थ्य का संकेत होता है। 


क्रोध की भावना से जोड़कर देखा जाता रहा...
जापान में अत्यधिक क्रोध को जैविक स्वास्थ्य के खतरे के स्तर में गिरावट लाने और अच्छे स्वास्थ्य की निशानी से जोड़कर देखा जाता है। कितायामा ने कहा, 'इन अध्ययनों से पता चलता है कि सामाजिक-सांस्कृतिक कारक भी जैविक प्रक्रियाओं को महत्वपूर्ण ढंग से प्रभावित करते हैं।' यह अध्ययन जर्नल साइकोलॉजिकल साइंस में प्रकाशित हुआ है। शोधकर्ताओं ने अमेरिका और जापान में एकत्र किए गए आंकड़ों का अध्ययन किया। उन्होंने अच्छे स्वास्थ्य के स्तर को मापने के लिए उत्तेजना और ह्वदय से जुड़ी गतिविधियों का अध्ययन किया, जिन्हें पूर्व में किए गए शोधों में क्रोध की भावना से जोड़कर देखा जाता रहा है। अध्ययन में पाया गया कि अमेरिका में अत्यधिक क्रोध को जैविक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक माना जाता है, जैसा कि पूर्व के शोधों में भी कहा गया है। 

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े....पकडे गए फिल्मों को लीक करने वाले मुन्नाभाई

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.