टॉयलेट नहीं बनवाया तो काट दिया जायेगा बिजली कनेक्शन जिन्दा पति को मृत घोषित कर पत्नी ने किया कुछ ऐसा...! मीरा के बाद अब बेटी मीशा के साथ शाहिद कपूर ने की फोटो शेयर LIVE INDvsSL: श्रीलंका को पहला झटका, दानुष्का ने खेली 35 रन की पारी भारत सरकार के राष्ट्रीय स्ट्रीट लाइटिंग कार्यक्रम ने 50,000 किलोमीटर लंबी भारतीय सड़कों को किया रोशन उत्कल ट्रैन हादसे को लेकर प्रभु सख्त, कहा - शाम तक बताओ गुनहगार कौन सोया रिफाइंड में उछाल, चना, चुनिंदा दालें और गेहूं के दाम में गिरावट इस युवक के कान से निकली ऐसी चीज जिसे देख उड़ गए होश अपराध की योजना बनाने वाले अपराधियों का पुलिस ने किया पर्दा पास ...तो इसलिए एक साथ काम नहीं करना चाहते वरुण-आलिया PM मोदी ने दी अपने मंत्रियों को चेतावनी, कहा- सरकारी आवास में ठहरे न की 5 स्टार होटलों में भारत में लॉन्च हुआ दमदार फीचर्स के साथ LENOVO K8 NOTE इंटरनेशनल प्रोजेक्ट्स के साथ-साथ देश में भी फिल्मों का निर्माण कर रही है देसी गर्ल उत्कल एक्सप्रेस घटना: बाबुओ पर फूटा प्रभु का गुस्सा, कहा-दिन के अंत तक जवाबदेयी तय करें 32 फीट की इस बाइक का गिनीज ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज दक्षिण कोरिया: जहाज कारखाने में विस्फोट से हुई 4 लोगो की मौत 'टेरर फंडिंग' समाप्त करके आतंकवाद का खात्मा किया जा सकता है: राजनाथ इस जगह पर लोगों ने 16 बार मनाया नववर्ष! हुंडई की इलेक्ट्रिक कार सिंगल चार्ज पर 500 किमी चलेगी सुनील ग्रोवर ने कपिल शर्मा के सबसे करीबी दोस्त का ट्विटर पर खुछ ऐसे बनाया मजाक
अगर आपको गुस्सा आता है, तो आप स्वस्थ हैं।
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 05:05:49 AM
1 of 1

 
नई दिल्ली: अत्यधिक क्रोध को जापानी लोग बेहतर जैविक स्वास्थ्य से जोड़कर देखते हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के मनोविज्ञानी शिनोबु कितायामा के मुताबिक, 'क्रोध को बुरे स्वास्थ्य से जोड़कर देखना आमतौर पर पश्चिमी संस्कृति का हिस्सा है, जहां गुस्से को निराशा, निर्धनता, निम्र जीवन स्तर और उन सभी कारकों से जोड़कर देखा जाता है, जो स्वास्थ को नुकसान पहुंचाते हैं।' आम तौर पर यह माना जाता है कि क्रोध तन और मन दोनों के लिए नुकसानदायक होता है, लेकिन शोधकर्ताओं का कहना है कि कुछ संस्कृतियों में गुस्सा बुरे नहीं बल्कि अच्छे स्वास्थ्य का संकेत होता है। 


क्रोध की भावना से जोड़कर देखा जाता रहा...
जापान में अत्यधिक क्रोध को जैविक स्वास्थ्य के खतरे के स्तर में गिरावट लाने और अच्छे स्वास्थ्य की निशानी से जोड़कर देखा जाता है। कितायामा ने कहा, 'इन अध्ययनों से पता चलता है कि सामाजिक-सांस्कृतिक कारक भी जैविक प्रक्रियाओं को महत्वपूर्ण ढंग से प्रभावित करते हैं।' यह अध्ययन जर्नल साइकोलॉजिकल साइंस में प्रकाशित हुआ है। शोधकर्ताओं ने अमेरिका और जापान में एकत्र किए गए आंकड़ों का अध्ययन किया। उन्होंने अच्छे स्वास्थ्य के स्तर को मापने के लिए उत्तेजना और ह्वदय से जुड़ी गतिविधियों का अध्ययन किया, जिन्हें पूर्व में किए गए शोधों में क्रोध की भावना से जोड़कर देखा जाता रहा है। अध्ययन में पाया गया कि अमेरिका में अत्यधिक क्रोध को जैविक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक माना जाता है, जैसा कि पूर्व के शोधों में भी कहा गया है। 

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े....पकडे गए फिल्मों को लीक करने वाले मुन्नाभाई

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.