loading...
loading...
loading...
मां व पड़ोस की महिला के सामने लड़की से किया गैंगरेप फाइनेंसियल ईयर 2015-16 में राज्यों का सकल राजकोषीय घाटा 4,93,360 करोड़ रुपए दैनिक राशिफल…… 25 जून, 2017 रविवार राजस्थान : पुलिस एनकाउंटर में मारा गया खूंखार गैंगस्टर आनंदपाल दी स्टेट ऑफ दी स्टेट राजस्थान कॉन्क्लेव राजस्थान को सर्वश्रेष्ठ बनाना हम सबका सपना - मुख्यमंत्री अब घर पर ही बनाये राजस्थान की राज कचोरी बारात गांव लौटे तो विवाहित जोड़ा शहीद की प्रतिमा पर लगाएं धोक श्रीगंगानगर से जल्द शुरू होगी हवाई सेवाएं, जयपुर व दिल्ली से वायु सेवा से जुडे़गें क्षेत्र के लोग महिला के दिमाग से शुतुरमुर्ग के अंडे जैसा ट्यूमर निकला इस बारिश के मौसम में बनाएं स्वीट कार्न पनीर बॉल रॉन्ग नंबर से कॉल आया और हो गया प्यार, लेकिन जब उसके घर पंहुचा तो उड़ गए होश स्वास्थ्य जांच शिविर में विभिन्न रोगों से ग्रसित 178 लोगों की जांच हुई सभी धर्म-मजहबों को सम्मान देना चाहिए हरियाणा: मुर्तजापुर के सरकारी पशु अस्पताल में पशु जांच शिविर का आयोजन भारत और विश्व के इतिहास में 25 जून की प्रमुख घटनाएं बहुत गौरवशाली रहा गोंड समाज का इतिहास: रामदुलार गोंड बड़ी सफलता: पुलिस एनकाउंटर में राजस्थान के खूंखार गैंगस्टर आनंदपाल की मौत, अन्य दो साथी अरेस्ट अनियंत्रित कार ने फुटपाथ पर सो रहे चार लोगो को कुचला आखिर मारा गया राजस्थान का कुख्यात बदमाश आनंदपाल Breaking News: पुसिस एनकाउंटर में गैंगेस्टर आनंदपाल मारा गया , मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी हुए घायल
अगर आपको गुस्सा आता है, तो आप स्वस्थ हैं।
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 05:05:49 AM
1 of 1

 
नई दिल्ली: अत्यधिक क्रोध को जापानी लोग बेहतर जैविक स्वास्थ्य से जोड़कर देखते हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के मनोविज्ञानी शिनोबु कितायामा के मुताबिक, 'क्रोध को बुरे स्वास्थ्य से जोड़कर देखना आमतौर पर पश्चिमी संस्कृति का हिस्सा है, जहां गुस्से को निराशा, निर्धनता, निम्र जीवन स्तर और उन सभी कारकों से जोड़कर देखा जाता है, जो स्वास्थ को नुकसान पहुंचाते हैं।' आम तौर पर यह माना जाता है कि क्रोध तन और मन दोनों के लिए नुकसानदायक होता है, लेकिन शोधकर्ताओं का कहना है कि कुछ संस्कृतियों में गुस्सा बुरे नहीं बल्कि अच्छे स्वास्थ्य का संकेत होता है। 


क्रोध की भावना से जोड़कर देखा जाता रहा...
जापान में अत्यधिक क्रोध को जैविक स्वास्थ्य के खतरे के स्तर में गिरावट लाने और अच्छे स्वास्थ्य की निशानी से जोड़कर देखा जाता है। कितायामा ने कहा, 'इन अध्ययनों से पता चलता है कि सामाजिक-सांस्कृतिक कारक भी जैविक प्रक्रियाओं को महत्वपूर्ण ढंग से प्रभावित करते हैं।' यह अध्ययन जर्नल साइकोलॉजिकल साइंस में प्रकाशित हुआ है। शोधकर्ताओं ने अमेरिका और जापान में एकत्र किए गए आंकड़ों का अध्ययन किया। उन्होंने अच्छे स्वास्थ्य के स्तर को मापने के लिए उत्तेजना और ह्वदय से जुड़ी गतिविधियों का अध्ययन किया, जिन्हें पूर्व में किए गए शोधों में क्रोध की भावना से जोड़कर देखा जाता रहा है। अध्ययन में पाया गया कि अमेरिका में अत्यधिक क्रोध को जैविक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक माना जाता है, जैसा कि पूर्व के शोधों में भी कहा गया है। 

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े....पकडे गए फिल्मों को लीक करने वाले मुन्नाभाई

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.