सुरक्षित और सम्मिलित साइबर स्पेस देने के प्रति प्रतिबद्ध है भारत : सुषमा स्वराज पद्मावती विवाद: नाहरगढ़ किले पर लटकाया युवक का शव, लिखा- हम पुतले नहीं शव लटकाते है हादसा :पटरी से उत्तरी वास्को-डि-गामा-पटना एक्सप्रेस हाफिज सईद की रिहाई पर अमेरिका ने जताई नाराजगी, कहा- फिर से गिरफ्तार करो दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ाने से किसी को नहीं हुआ फायदा: केजरीवाल मिस्र में अब तक का सबसे भीषण आतंकी हमला, 235 लोगो की मौत वीडियो: वोट देने से किया मना तो दबंगो ने जलाया महिला का घर आधार कार्ड को लेकर दो बड़े फैसले, जल्द कीजिए आप भी नहीं तो सकता है बड़ा नुकसान अभिनेत्री नमिता आज अपने बॉयफ्रेंड वीरेंद्र से रचाई शादी, देखें वीडियो रेसिपी: इस प्रकार बनाएं स्वादिष्ट मैकरोनी कन्‍नौज में दूल्‍हा-दुल्‍हन ने थाने में रचाई शादी, खाईं सात जन्‍मों की कसमें, देखें वीडियो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ता हैं पपीता, जानिए पद्मावती विरोध: किले में शव मिलने से बॉलीवुड में मचा हड़कंप, जानिए पूरा मामला मिस्र: हिंसक आतंकी हमले में 155 मरे, सैंकड़ों घायल ‘मॉनसून शूटआउट’ का नया गाना ‘अंधेरी रात’ में दिया हुआ रिलीज़ THE फैक्ट्री कार्नर ने मनाया बालदिवस कई खतरनाक बीमारियों को दूर भगाता है अमरूद, जानिए अभिनेत्री नमिता ने फिल्म निर्माता वीरेंद्र चौधरी संग रचाई शादी DSP ने शादी का झांसा देकर महिला कांस्टेबल से बनाए शारीरिक सम्बन्ध सुस्त मांग से सोने में गिरावट, चांदी स्थिर
यहां पर अजीब बीमारी के साथ पैदा हुई बच्ची, देखने वालों की लगी भीड़
sanjeevnitoday.com | Monday, July 17, 2017 | 03:57:44 PM
1 of 1

नई दिल्ली। कई बार जन्म से किसी बीमारी से ग्रस्त बच्चे पैदा होते है और कई बार तो समाज इन्हें अपनाने से भी मना कर देता है। ऐसा ही एक मामला मुंबई में भी सामने आया है, जहां 2 हफ्ते की एक मासूम बच्ची अजीब तरह की बीमारी से जूझ रही है। इस बच्ची की त्वचा पैदाइशी ही किसी बूढी महिला जैसी है। इसके शरीर पर झुर्रियां हैं और यह बहुत पतली है। 

 

मां-बाप ने इस बच्ची को अपनाने से मना कर दिया है। बच्ची की मां ममता डोडे ने इसे अपना दूध तक नहीं पिलाया। दरअसल, यह बच्ची इंट्रा-यूट्रीन ग्रोथ रिटार्डेशन नाम की बीमारी से ग्रसित हैं। मुंबई के वाडिया अस्पताल में बच्ची का इलाज चल रहा है। इसका वजन 800 ग्राम है और यह 7 महीने में ही पैदा हुई प्रीमेच्योर बच्ची है।

यह भी पढ़े: वीडियो: असामाजिक तत्वों से परेशान होकर इस अबला औरत ने समाज से मांगी न्याय की भीख

बच्ची की देखभाल की जिम्मेदारी अब इसके बाबा दिलीप डोडे ने उठाया है। वे अकेले ही इसे मुंबई से 138 किमी दूर अपने गांव से इलाज कराने के लिए लाए। बच्ची को जिंदा रखने के लिए बकरी का दूध पिलाया जा रहा है। दिलीप ने बताया कि गांव के सभी लोग इस बच्ची को देखने तो आए लेकिन किसी ने उसे गोद में भी नहीं लिया क्योंकि उन्हें डर था कि यह बीमारी कहीं उन्हें भी न लग जाए। 

वहीं अस्पताल ने बच्ची के इलाज का खर्च उठाने की बात कही है। बच्ची के इलाज में करीब 5,00,000 रूपए लगेंगे। अस्पताल वालों ने ही दिलीप के रहने का इंतजाम किया है। दिलीप उनके बहुत ही शुक्रगुजार है। उनका कहना है कि चाहे जो भी हो जाए वह अपनी पोती का साथ नहीं छोडेगे क्योंकि वह अपनी हालत के लिए खुद जिम्मेदार नहीं है।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

 जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

 

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.