एक बार फिर साथ नजर आएंगी ये जोड़ी AAP को छोड़ BJP में शामिल हो सकते है कुमार विश्वास नोटबंदी: गड़बड़ी करने वाले बैंकों के कर्मचारियों पर सरकारी कार्रवाई Sanjeevni Today: Top Stories of 9am जो शक्तिशाली पडोसी देश है उनके बीच मतभेद स्वाभाविक: PM मोदी ISI की साजिश थी, इंदौर-पटना एक्सप्रेस का पटरी से उतरना निक्केई 0.20% कमजोरी के साथ 18,776 ओबामा प्रशासन की ट्रंप पर फर्जी आरोप लगाकर कमजोर करने की कोशिश: पुतिन जो रूट नहीं खेलेंगे इस साल IPL, छोड़ने की बताई ये वजह आतंकवाद से निपटने के लिए भारत की सहायता की जरुरत है :अमेरिका दो साल में घरेलू हवाई यात्रियों की संख्या बढ़ी डेढ़ गुना पढ़ें: इतिहास के पन्नों में 18 जनवरी का दिन क्यों है खास पाकिस्तान विमान हादसा : जांच के लिए पायलटों के शव निकाले जाएंगे कब्र खोदकर! अपराधियों और बागियों के आलावा मुलायम की और से सबको OK 'आर्मी जवानो' को मिलेंगे मॉडर्न-हेलमेट, इसमें क्या होगा खास खुशखबरी : वोडाफोन 250 में देगा 4 जीबी डेटा डीविलियर्स ने क्रिकेट से संन्यास को लेकर दिया ये बड़ा बयान, कहा... क्या आप जानते है Keyboard के बटन अल्फाबेटिकल क्यों नही होते 60 अंक बढ़त के साथ सेंसेक्स 27350 , निफ्टी 8450 के करीब विराट कोहली को रोकने के लिए इंग्लैंड को बनानी होगी यह खास योजना
कटी हुई उंगली को भी ऊगा देगी ये छिपकली
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 10:56:42 PM
1 of 1

न्यूयार्क। छिपकली की कई प्रजातियाँ पाई जाती है। अक्सर लोगो के घरो में ही छिपकली दिखायी दे जाती है और लोग उसे देखकर मार देते है लेकिन लोग नहीं जानते कि वहीं छिपकली लोगो के अंग उगाने के काम आती है। वैज्ञानिकों ने वह आनुवांशिक नुस्खा खोज निकाला है, जो छिपकली में अंग के पुनर्निमाण के लिए कारक है। वैज्ञानिकों का कहना है कि आनुवांशिक सामग्रियों के सही मात्रा में मिश्रण से यह संभव हो सकता है। छिपकली की पूंछ प्राचीन समय से मानवजाति को आकर्षित करती रही है। छिपकली की पूंछ का खुद से झडऩा और फिर नई पूंछ उग आना मनुष्य के लिए कौतूहल का विषय रहा है। लेकिन वैज्ञानिकों ने अब इस रहस्य का पता लगा लिया है कि आखिर कैसे छिपकली नई पूंछ उगा सकती है।


एरीजोना स्टेट यूनिवर्सिटी की केनरो कुसुमी ने कहा है कि दरअसल छिपकली में भी वही जीन होते हैं जो मनुष्यों में होते हैं। वे मनुष्यों की शारीरिक संरचना से सबसे ज्यादा मेल खाने वाले जीव हैं। छिपकली में पाए जाने वाले अंग पुनर्निमाण के आनुवांशिक नुस्खे का पता लगाकर उन्हीं जीन को मानव कोशिका में आरोपित कर उपास्थि, मांसपेशी और यहां तक कि रीढ़ की हड्डी की पुर्नसरचना भविष्य में संभव हो सकती है। जर्नल 'पीएलओएस ओनएई' में प्रकाशित शोध में कहा गया कि इस खोज से रीढ़ की हड्डी की चोट, जन्म संबंधी विकृतियां और गठिया जैसे रोगों को ठीक करने में मदद मिल सकती है।कुसुमी ने कहा है कि अंग की पुर्नसरचना में शामिल जीनों के पूरी जानकारी हासिल कर अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से हम इस रहस्य को सुलझा सकते हैं कि आखिर छिपकली की पूंछ के दोबारा उगने के लिए जीनों को किन-किन कारकों की आवश्यकता होती है।

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े: दुबई के पास मिला अनोखा फल, जिस पर लिखा हुआ था कुछ ये...

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.