loading...
तुअर दाल के बंपर उत्पादन के चलते आयात शुल्क 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 हो : खाद्य मंत्रालय J&K: आतंकियों ने कि सत्ताधारी पार्टी पीडीपी नेता अब्दुल गनी की गोली मारकर हत्या नवाजुद्दीन ने कराया अपना 'DNA टेस्ट', धर्म के नाम पर राजनीति करने वालों को दिया करारा जवाब IPL-10: 250 रुपए का क्रिकेट सट्टा हार गया तो नाबालिग ने बेरहमी से किया दोस्त का कत्ल पशु तस्करी मामले में केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पेश की रिपोर्ट, UID नंबर जारी करने कि सिफारिश रेलवे की नई पहल 'उदय एक्सप्रेस', साधारण किराए पर लग्जरी जैसा सफर! क्रिकेट: क्रिकेट इतिहास में पहली बार बना ये शर्मनाक रिकार्ड, चीन की टीम महज 28 रन पर हुई ऑलआउट राज्य सरकार जल्द लागु करेंगी सभी विभागों में फाइल मॉनिटरिंग सिस्टम आज भारत में LG G6 स्मार्टफोन होगा लॉन्च, जानिए खासियत... ये कंपनी दे रही है 80 पैसे में 1 जीबी डाटा, जानिए... MCD चुनाव के एग्जिट पोल को देख घबराए केजरीवाल Video: देखिए, कैसे हुई बाहुबली-2 की शूटिंग और सेट डिज़ाइन? जुलाई से शुरू होगी डबल डेकर AC ट्रेन जयललिता के कोडनडु टी एस्टेट में चौकीदार की हुई हत्या रिपोर्ट: एयरटेल ने 4जी एलटीई OpenSignal के मामले में रिलायंस जियो को पछाड़ ऑटो चालक के बेटे को Free में मिला जस्टिन बीबर के कॉन्सर्ट का गोल्डन टिकट चुनाव आयोग ने केंद्र सरकार को लिखी चिट्ठी, कहा- चुनाव मेें रिश्वत देने वालों को किया जाए अमान्य घोषित Kawasaki ने भारत में Z250 का 2017 का वर्जन किया लॉन्च,जाने कीमत Video: देखिए, सलमान और माधुरी की अनदेखी तस्वीरें! Airtel लाया अपने यूजर्स के लिए दो शानदार ऑफर
कटी हुई उंगली को भी ऊगा देगी ये छिपकली
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 10:56:42 PM
1 of 1

न्यूयार्क। छिपकली की कई प्रजातियाँ पाई जाती है। अक्सर लोगो के घरो में ही छिपकली दिखायी दे जाती है और लोग उसे देखकर मार देते है लेकिन लोग नहीं जानते कि वहीं छिपकली लोगो के अंग उगाने के काम आती है। वैज्ञानिकों ने वह आनुवांशिक नुस्खा खोज निकाला है, जो छिपकली में अंग के पुनर्निमाण के लिए कारक है। वैज्ञानिकों का कहना है कि आनुवांशिक सामग्रियों के सही मात्रा में मिश्रण से यह संभव हो सकता है। छिपकली की पूंछ प्राचीन समय से मानवजाति को आकर्षित करती रही है। छिपकली की पूंछ का खुद से झडऩा और फिर नई पूंछ उग आना मनुष्य के लिए कौतूहल का विषय रहा है। लेकिन वैज्ञानिकों ने अब इस रहस्य का पता लगा लिया है कि आखिर कैसे छिपकली नई पूंछ उगा सकती है।


एरीजोना स्टेट यूनिवर्सिटी की केनरो कुसुमी ने कहा है कि दरअसल छिपकली में भी वही जीन होते हैं जो मनुष्यों में होते हैं। वे मनुष्यों की शारीरिक संरचना से सबसे ज्यादा मेल खाने वाले जीव हैं। छिपकली में पाए जाने वाले अंग पुनर्निमाण के आनुवांशिक नुस्खे का पता लगाकर उन्हीं जीन को मानव कोशिका में आरोपित कर उपास्थि, मांसपेशी और यहां तक कि रीढ़ की हड्डी की पुर्नसरचना भविष्य में संभव हो सकती है। जर्नल 'पीएलओएस ओनएई' में प्रकाशित शोध में कहा गया कि इस खोज से रीढ़ की हड्डी की चोट, जन्म संबंधी विकृतियां और गठिया जैसे रोगों को ठीक करने में मदद मिल सकती है।कुसुमी ने कहा है कि अंग की पुर्नसरचना में शामिल जीनों के पूरी जानकारी हासिल कर अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से हम इस रहस्य को सुलझा सकते हैं कि आखिर छिपकली की पूंछ के दोबारा उगने के लिए जीनों को किन-किन कारकों की आवश्यकता होती है।

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े: दुबई के पास मिला अनोखा फल, जिस पर लिखा हुआ था कुछ ये...

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.