loading...
इतिहास के पन्नों से- आखिर क्यों भारत छोड़ने को उतारू थी ताकतवर प्रधानमंत्रियों में से एक इंदिरा गाँधी! आज का राशिफल (24 मार्च 2017, शुक्रवार) जानिए नवरात्रों में क्यों रखते हैं 9 दिन तक उपवास, क्या हैं महत्व! क्या कोलंबस ने ही की थी अमेरिका की खोज, जानिए क्या कहता हैं इतिहास! जानिए बाल छोटे क्यों रखते हैं सैनिक! शारीरिक संबंधों को बेहतर बनाने के लिए रात को तेज आवाज में सुने संगीत! LG ने भारत में लॉन्च किया Stylus 3, फीचर्स और कैमरा हैं खासियत Take a Selfie: दोस्तों के साथ सेल्फी लेने से बढ़ती हैं खुशियां! खौफनाक मंजर.. प्यार के लिए सिर झुकाकर खाई छड़ी से मार! दावा: इस तरीके से रेगिस्तान को बनाया जा सकता हैं उपजाऊ! जानिए मन में क्यों आते हैं अजीब विचार, क्या कहते थे सर आइंस्टीन? Amazing: इस मंदिर में जलाया जाता हैं घी की जगह पानी का दीपक! पीलिया पीड़ित मरीजों के लिए बेहतर इलाज हैं चींटी का डंक! सीएम योगी एक्शन का असर, प्रशासन चुस्त-दुरुस्त, कई विभागों से मचा हुआ हैं हड़कंप! अमेरिका की 271 अवैध लोगों की सूची को भारत ने किया अस्वीकार एक्सेल एंटरटेनमेंट फिल्म 'गोल्ड' में हॉकी कोच बनेंगे कुणाल एसवाईएल मुद्दे पर शुक्रवार को राजनाथ से मिलेगा हरियाणा का सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल पुलिस वाहन चालक की हत्या के मामले में दो गिरफ्तार सपा राज में बने आगरा-लख़नऊ एक्सप्रेस वे समेत सभी सड़कों की जांच कराएगी UP सरकार होमगार्ड के प्लाटून कमांडर को 3 हजार की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा
जी हाँ ! पति की मौत का ख़ौफ़, इसीलिए नहीं करती करवा चौथ का व्रत
sanjeevnitoday.com | Thursday, October 20, 2016 | 01:51:24 AM
1 of 1

करनाल। पतियों की दीर्घायु के लिए रखे जाने वाले व्रत करवा चौथ को करनाल के तीन गांव की चौहान गोत्र की महिलाएं सदियों से नहीं मनाती आ रही हैं। उनका मानना है कि जो सुहागिन इस व्रत को रखेगी उसका सुहाग उजड़ जाएगा। करीब 600 साल पहले पति के साथ सती हुई सुहागिन के श्राप का खौफ गोंदर, कतलाहेड़ी व औंगद गांव में आज भी है। हालांकि तीनों गांवों में अन्य बिरादरी की सुहागिनें इस पर्व को मनाती हैं। 

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166
गांव की बेटियां भी अपने ससुराल में जाकर पति की लंबी आयु की कामना के लिए करवाचौथ का व्रत रखती हैं। बता दें कि गोंदर गांव के ही बुजुर्ग ने औंगद बसाया, इसके बाद सन 1823 में कतलाहेड़ी गांव अस्तित्व में आया। परंपरा तीनों गांवों में वही है। तीनों गांवों में पाया गया कि करीब 700 साल पहले करवाचौथ के ही दिन गोंदर गांव में हुई एक घटना ने इस त्योहार के मायने ही बदल दिए हैं।

सपना आया कि उसके पति की हत्या कर दी गई

गांव के बुजुर्गों के अनुसार करवाचौथ के दिन करीब सात सौ साल पहले राहड़ा गांव की एक लड़की अमृत कंवर की शादी गोंदर गांव में हुई थी। करवाचौथ के व्रत से पहले वह अपने मायके राहड़ा गांव गई हुई थी। व्रत से एक दिन पहले की रात उसे सपना आया कि उसके पति की हत्या कर दी गई है और उसका शव बाजरे की फसल के बीच में छुपा रखा है। उसने यह बात अपने मायके वालों को बताई। मायके वाले उसे सुबह होते ही करवाचौथ के दिन गांव गोंदर लेकर पहुंचे। सपने में दिखे स्थान पर पति की तलाश करने पर उसका शव मिल गया। 

सुहाग उजड़ जायेगा
उस दिन उसने करवाचौथ का व्रत रखा हुआ था, इसलिए उसने घर में अपने से बड़ी महिलाओं को करवा देना चाहता तो उन्होंने लेने से मना कर दिया। इसके बाद वह करवा लेकर ही पति के साथ सती हो गई और कहा कि यदि भविष्य में इस गांव की किसी बहू ने करवाचौथ कर व्रत रखा तो उसका सुहाग उजड़ जायेगा। तब से गांव में कोई भी महिला ने व्रत नहीं रखा है।

यह भी पढ़े : यहां पर बुजुर्गो को चाहिए कम उम्र की कमसिन लड़कियाँ, जानिए वजह

यह भी पढ़े : यहाँ लड़कियां देह व्यापार के दलदल में उतरने को है मजबूर, जानिए वजह

यह भी पढ़े : यहां महिलाओ की अंडर गारमेंट्स पुरानी होने के बाद भी बिकती है लाखों में

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.