आखिर क्या हुआ भारत के विराट को, बरसे अंपायर पर.. ये शो वापस लाएगा मशहूर ITEM GIRL राखी सावंत ! शिक्षा आर्थिक संवृद्धि की पहली शर्त : मनमोहन सिंह निम्मो का पहला लुक जारी, जरूर देखे जूनियर और सीनियर हाकी में एकरूपता चाहते हैं कोच IPL 2017 में नहीं होंगे KKR के गेंदबाजी कोच वसीम अकरम केरल के CM को हुई असुविधा के लिए MP के शीर्ष अधिकारियों को खेद शशिकला को संभालनी चाहिए अन्नाद्रमुक की कमान : पन्नीरसेल्वम HOCKEY: इंग्लैंड भी नही रोक सका भारत का विजयी अभियान, 5-3 से परास्त BIRTHDAY PARTY: स्टनिंग लुक में नजर आई नव्या पिस्टल दिखाकर महिला से मारपीट और गैंगरेप पर्रिकर ने मॉरीशस को पूर्ण सहयोग का दिया आश्वासन ऐसा क्या कारण था जो कटप्पा ने बाहुबली को मारा तेलंगाना में करीब 82 लाख रूपये के नए नोट जब्त पंजाब: बेरवाला गांव के जंगल में मिली मिसाइल,मचा हड़कंम एयर इंडिया फंसे यात्रियों को निकालने के लिए आज रात दो उड़ानें करेगी संचालित नहीं मिली एम्बुलेंस, मजबूरन हाथ रिक्शे से लाना पड़ा शव life Ok शो ‘बहू हमारी रजनीकांत’ बंद नहीं होगा भारत को तीन साल में मिलेगी राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप: वायुसेनाध्यक्ष खेल मंत्री ने सोनीपत में नए कुश्ती हाल का उद्घाटन किया..
बरमूडा ट्राइंगल : जो कोई भी जाता है कभी वापस नही आता पढ़िए ... ऐसे पता चला दुनिया को
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 09:08:51 AM
1 of 1

नई दिल्ली। इसके बारें में तो आप सभी ने सुन ही रखा होगा। यह धरती की सबसे चर्चित रहस्यमयी जगहों में से एक है। उत्तर पश्चिम अटलांटिक महासागर में एक त्रिकोण जैसा, ये इलाका Bermuda Triangle कहलाता है जिसे ‘डेविल्‍स ट्राइंगल’ यानी ‘शैतानी त्रिभुज’ भी कहा जाता है। ये करीब 39,00,000 वर्ग किमी का इलाका है। इस जगह से गुजरने वाले तमाम जहाज और विमान अचानक गायब हो जाते हैं। इन विमानों या जहाजों के कोई निशान भी नहीं मिलते और वो रेडार से अचानक लुप्त हो जाते हैं। अमेरिकी नेवी का मानना है कि यह बरमूडा ट्राइंगल है ही नहीं,और अमेरिकी geographic नामों में ऐसा कोई भी नाम है ही नहीं। इसके बाद भी इस जगह के बारे में ऐसी कई असाधारण बातों का जिक्र किया जाता है,जिन पर यकीन करना म‍ुश्किल हो जाता है बहरहाल, तमाम शोध और जाँच-पड़ताल के बाद भी इस नतीजे पर नहीं पहुँचा जा सका है कि आखिर गायब हुए जहाजों का पता क्यों नहीं लग पाया। उन्हें आसमान निगल गया या समुद्र लील गया, दुर्घटना की स्थिति में भी मलबा तो मिलता, ये प्रश्न अनुत्तरित हैं।

बरमूडा ट्राइंगल के बारे में सबसे पहले जिक्र क्रिस्टोफर कोलंबस ने किया था। कोलंबस ने 11 अक्टूबर 1492 की अपनी जर्नल्‍स में लिखा है कि उस जगह से कुछ दूरी से गुजरते वक्त उन्होंने क्षितिज पर नाचती अजीबोगरीब सी रोशनी देखी। ऐसा लगता था कि आसमान में आग का एक गोला हैं और वहां पर दिशा बताने वाला कंपास अजीबोगरीब तरीके से व्यवहार करने लगा था। वैज्ञानिक भी मानते हैं कि यहां पर धरती के अंदर कुछ ऐसा है जिसकी वजह से यहां प्रकृति के सारे नियम फेल हो जाते हैं।

यह भी पढ़े: फूड आइटम की बिक्री दुगनी हो जाती है जब ये मॉडल छोटे कपडे पहन कर करती है दुकानदारी..!

यह भी पढ़े: चमत्कारी पहाड़ ! आज भी खुद ब खुद ऊपर की और चलने लगती है गाड़िया ... छुपी है रहस्यमहि ताकत

यह भी पढ़े: VIDEO: जब बीच सड़क पर गाने पर अचानक ही ये लड़का-लड़की करने लगे DANCE!

यह भी पढ़े : रोज-रोज होता था पेट दर्द, चेक करवाया तो निकला कंडोम, डाक्टर भी चौंक गये



0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.