आज का राशिफल (21 जनवरी 2017) कोयलाकर्मियों की पेंशन पर असमंजस जारी, आज होगी निर्णायक बैठक OMG: यहां पर बिल्लियों को दी जाती है सरकारी नौकरी! जानिये कम सैलेरी में कैसे करे बचत... धोनी ने युवराज के क्रिकेट करियर के तीन महत्वपूर्ण साल कर दिए खराब: योगराज सिंह OMG: पानी के प्रैशर से चलती यह 200 साल पूरानी चक्की... छपेमारी के दौरान 4384 लीटर अवैध शराब बरामद बादल परिवार ने 10 वर्ष के शासन में लूट लिया पंजाब: नवजोत सिंह सिद्दू विवाहिता की हत्या के आरोप में को ससुरालियों को जेल शनिवार को इस विधि से की गई पूजा से शनिदेव होंगे प्रसन्न..! आल्टो कार- टाटा 207 में भिड़ंत, दो की मौत UP विधानसभा चुनाव: सपा ने की 209 उम्मीदवारों की सूची जारी, शिवपाल यादव और आजम खान भी मैदान में एलएफडब्ल्यू फिनाले में जलवे बिखेरेंगी करीना किशोर ने फंदा लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया आज भारतीय क्रिकेटर ऋषि धवन फैशन डिज़ाइनर दीपाली चौहान से रचाएंगे सगाई ! दीपिका पादुकोण संग थिरके जेम्स कॉर्डन जन धन खाताधारकों को 2 लाख रु का बीमा मिलने की पूरी उम्मीद राहत फतेह अली खान के गीत में नजर आएंगे कुनाल रांची का विवेकानंद तिवारी भारत अंडर-19 क्रिकेट टीम में शामिल किशोरी की गला काटकर हत्या
बरमूडा ट्राइंगल : जो कोई भी जाता है कभी वापस नही आता पढ़िए ... ऐसे पता चला दुनिया को
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 09:08:51 AM
1 of 1

नई दिल्ली। इसके बारें में तो आप सभी ने सुन ही रखा होगा। यह धरती की सबसे चर्चित रहस्यमयी जगहों में से एक है। उत्तर पश्चिम अटलांटिक महासागर में एक त्रिकोण जैसा, ये इलाका Bermuda Triangle कहलाता है जिसे ‘डेविल्‍स ट्राइंगल’ यानी ‘शैतानी त्रिभुज’ भी कहा जाता है। ये करीब 39,00,000 वर्ग किमी का इलाका है। इस जगह से गुजरने वाले तमाम जहाज और विमान अचानक गायब हो जाते हैं। इन विमानों या जहाजों के कोई निशान भी नहीं मिलते और वो रेडार से अचानक लुप्त हो जाते हैं। अमेरिकी नेवी का मानना है कि यह बरमूडा ट्राइंगल है ही नहीं,और अमेरिकी geographic नामों में ऐसा कोई भी नाम है ही नहीं। इसके बाद भी इस जगह के बारे में ऐसी कई असाधारण बातों का जिक्र किया जाता है,जिन पर यकीन करना म‍ुश्किल हो जाता है बहरहाल, तमाम शोध और जाँच-पड़ताल के बाद भी इस नतीजे पर नहीं पहुँचा जा सका है कि आखिर गायब हुए जहाजों का पता क्यों नहीं लग पाया। उन्हें आसमान निगल गया या समुद्र लील गया, दुर्घटना की स्थिति में भी मलबा तो मिलता, ये प्रश्न अनुत्तरित हैं।

बरमूडा ट्राइंगल के बारे में सबसे पहले जिक्र क्रिस्टोफर कोलंबस ने किया था। कोलंबस ने 11 अक्टूबर 1492 की अपनी जर्नल्‍स में लिखा है कि उस जगह से कुछ दूरी से गुजरते वक्त उन्होंने क्षितिज पर नाचती अजीबोगरीब सी रोशनी देखी। ऐसा लगता था कि आसमान में आग का एक गोला हैं और वहां पर दिशा बताने वाला कंपास अजीबोगरीब तरीके से व्यवहार करने लगा था। वैज्ञानिक भी मानते हैं कि यहां पर धरती के अंदर कुछ ऐसा है जिसकी वजह से यहां प्रकृति के सारे नियम फेल हो जाते हैं।

यह भी पढ़े: फूड आइटम की बिक्री दुगनी हो जाती है जब ये मॉडल छोटे कपडे पहन कर करती है दुकानदारी..!

यह भी पढ़े: चमत्कारी पहाड़ ! आज भी खुद ब खुद ऊपर की और चलने लगती है गाड़िया ... छुपी है रहस्यमहि ताकत

यह भी पढ़े: VIDEO: जब बीच सड़क पर गाने पर अचानक ही ये लड़का-लड़की करने लगे DANCE!

यह भी पढ़े : रोज-रोज होता था पेट दर्द, चेक करवाया तो निकला कंडोम, डाक्टर भी चौंक गये



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.